ऑनलाइन ट्रेडिंग में निवेश

Demat Trading Account KYC Rules: नए साल 2022 से आप नहीं कर पायेंगे शेयरों की ट्रेडिंग अगर आपने नहीं किया ये जरुरी काम, ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? पढ़ें पूरी खबर

By: ABP Live | Updated at : 27 Dec 2021 04:24 PM (IST)

Edited By: manishkumar

Demat Trading Account KYC Rules: अगर आपने शेयरों की खरीद फरोख्त करने के डिमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खुलवा रखा है जो ये खबर जानना आपके लिये बेहद जरुरी है. अगर आपने डिमैट और ट्रेडिंग अकाउंट का केवाईसी ( Know Your Customers) नहीं करवा रखा है तो नए साल में आप शेयरों की ट्रेडिंग नहीं कर पायेंगे. नए ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? साल में एक जनवरी 2022 से आपका डिमैट और ट्रेडिंग अकाउंट इनएक्टिव ( Inactive) हो जाएगा.

सेबी ने केवाईसी किया जरुरी

दरअसल शेयर बाजार के रेग्लुयेटर सेबी ( Securities Exchange Board Of India) ने सभी डिमैट और ट्रेडिंग अकाउंट धारकों के केवाईसी को जरुरी कर दिया है. सेबी के नए नियम के मुताबिक 31 दिसंबर 2021 से पहले अगर किसी डिमैट अकाउंट होल्डर ने 6 केवाईसी डिटेल्स उपलब्ध नहीं कराया है जिसमें नाम, पता, पैन नंबर, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी और इनकम रेंज घोषित नहीं करता है तो ऐसे अकाउंट Non Compliant इनएक्टिव करार दिये जायेंगे. आपको बता दें सभी डिमैट अकाउंट कोलने वाले डिपॉजिटरीज अपने खाताधारकों को अपने सलाना इनकम का रेंज का भी खुलासा करने को कर रहे हैं. ऐसा नहीं करने पर डिमैट अकाउंट होल्डर्स के अकाउंट को इनएक्टिव करार कर दिया जाएगा.

घर बैठे फ्री ऑनलाइन ट्रेडिंग टूर्नामेंट अब है मुमकिन! जानें कैसे?

Binomo

  • 16 मार्च 2021,
  • (अपडेटेड 17 मार्च 2021, 3:07 PM IST)

लाइफ में अच्छी नौकरी और बैंक बैलेंस हर कोई चाहता है इसलिए अपनी लाइफ सिक्योर करने के लिए लोग सेविंग्स भी करते हैं. बैंक बाजार एस्पिरेशन इंडेक्स 2019 के मुताबिक 24 से 27 साल के बीच के ज्यादातर फीसदी नौजवान अपनी इनकम का 40 फीसदी बचा लेते हैं. लेकिन ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? क्या बचत करना ही काफी है? हम में से कई लोग इस बात को ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? नहीं समझ पाते कि सिर्फ बचत करना ही काफी नहीं है. बल्कि बचत को सही तरह से निवेश करना भी जरूरी है.

निवेश करना क्यों है जरुरी?

बचत की रकम को बढ़ाने के लिए निवेश करना जरूरी है. फंड का अपनी सूझबूझ से सही जगह निवेश करना कई बार फायदेमंद भी हो सकता है, लेकिन ये फायदे बाज़ार जोखिमों के आधीन होते है. साथ ही फिजूल खर्च से बचने के लिए अपनी सूझबूझ से सही जगह निवेश युवाओं के लिए एक बेहतर विकल्प है जो एडिशनल इनकम का नया जरिया बन चुका है.

Demat Account क्या होता है? | Demat account के फायदे क्या हैं?

आज के समय में मोबाइल internet लगभग हर सभी के पास है ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? जिससे वे जब चाहे जहां चाहें किसी भी प्रकार की जानकारी ले सकते हैं लेकिन सभी जानकारी का हमारी आपकी बोलचाल की भाषा में मिलना लगभग नामुमकिन है। जिस प्रकार मैं अपने पिछले ब्लॉग Stock Market क्या है ? से जुड़ी जानकारी एक सरल भाषा में आप सभी तक पहुँचाने में सफल रहा हूँ, आज का मेरा आर्टिकल स्टॉक मार्केट से ही जुड़े एक पेहलु Demat Account क्या होता है? Demat Account in Hindi से आपको एक सरल भाषा में रूबरू कराना है।

Demat-Account-kya-hota-hai || डीमैट-अकाउंट-कहाँ-और-कैसे-खोलें

आज हम जानेगें कि Demat Account Kya Hai? , Demat Account की जरुरत क्यों पड़ी, इसका स्टॉक मार्केट से क्या सम्बन्ध है?ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? ,डीमैट अकॉउंट कैसे काम करता है? और सबसे जरूरी उनके लिए जो स्टॉक मार्केट में निवेश करना चाहते हैं।

Demat का क्या मतलब है? What is DEMAT meaning in Hindi

Demat account के बारे में जानने से पहले Demat क्या है? ये जानना जरूरी है जिससे आगे की जानकारी को समझना आपके लिए आसान हो जाएगा।
DEMAT को पूर्तयः DEMATERIALISATION कहते हैं जिसका अर्थ है “कागज रहित करना ”, यानि की शेयर के कागजी रूप को बदल कर Digitalised करना या उन्हें Dematerlize करना , इस सम्पूर्ण प्रोसेस को DEMATERIALISATION इन शार्ट DEMAT केहते हैं।

जिस प्रकार से हम अपने पास रखे हार्ड कॅश को dematerialize करने के लिए , जिससे उसकी सुरक्षा बढ़ सके साथ ही लेन-देन करने में सहूलियत हो सके हम बैंक में अकाउंट खुलवाते हैं उसी प्रकार से शेयर / Equities की स्टॉक मार्केट में खरीद-फरोख के दौरान उन्हें एक जगह रखने की सुविधा के लिए जिस अकॉउंट को उपयोग में लाते हैं उसे डीमैट अकॉउंट कहते हैं। Demat Account में आपके शेयर को Dematerialize करके डिजिटल रूप में सेव कर दिया जाता है।
शेयर बाजार में निवेश करने के लिए डीमैट जरूरी होता है क्योंकि शेयर खरीदने और बेचने पर शेयर डीमैट अकाउंट से ही संचालित होते हैं। ट्रांजैक्शन के 2 दिन बाद ही शेयर डीमैट अकाउंट में आ जाते हैं।
ऊपर लिखित जानकारी से हमें Demat अकाउंट का Stock मार्केट से सीधे सम्बन्ध होने का भी ज्ञात होता है क्युकी स्टॉक मार्केट में यदि आपको निवेश करना है तो खरीदे शेयर को रखने के लिए Demat Account का होना अनिवार्य है।

Demat Account की क्यों जरुरत पड़ी?

स्टॉक मार्केट जब वजूद में आया उस समय टेक्नोलॉजी का इतना विस्तार नहीं हुआ था नाही Digitalised करने का कोई माध्यम था। उस समय शरहोल्डर्स को कम्पनीज एक प्रकार का कागजी सर्टिफिकेट सबूत के तौर पर देती थीं जिसे शरहोल्डर्स Future में दिखा के अपने शेयर बेच सकते ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? थे।

इस पूरी प्रक्रिया में कुछ प्रमुख ख़ामियाँ थीं , जैसे –

पहली खामी यह थी कि Certificate ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? कागज़ रूप में होते थे जिससे certificate के ख़राब होने , खो जाने , चोरी होने का खतरा रहता था। शेयर होल्डर पर एक अतिरिक्त ज़िम्मेदारी उन्हें संभाल कर रखने की बढ़ जाती थी। Demat अकाउंट होने से शेयर को आसानी से सेव करना आसान हो गया और उनकी सुरक्षा भी बढ़ गई।

दूसरी खामी शेयर के खरीदने और बेचने की थी क्युकी शेयर physical रूप में होते थे ,यदि किसी को शेयर बेचना या खरीदना हो तो उन्हें पहले जांच के एक official और लम्बे प्रोसेस से गुजरना होता था ताकि ये सुनिश्चित किया जा सके की शेयर्स सही निवेशक के पास ही जा ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? रहे। Demat Account के माध्यम से शेयर्स को आसानी से और कम समय में खरीदना और बेचना आसान हो गया।

डीमैट खाता क्या होता है | कैसे काम करता है| डीमैट खाता खोलने के तरीके

ट्रेडिंग अकाउंट आपके शेयर Buy और Selling के एक्सपीरियंस को बेहतर बनाता है। यदि आप आपका पहला डीमैट खाता खोलने जा रहे हैं तो जिस भी ब्रोकर या बैंक के साथ डीमैट खाता खोलने जा रहे हैं तो BSDA खाते (Basic Service Demat Account) की मांग करें जिससे आपका कुल निवेश अगर 50000 या उससे कम है तो आपको कोई सालाना फीस नहीं देनी होगी।

BSDA सुविधा, SEBI ( Securities and Exchange ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? Board of India) द्वारा सभी स्टॉक ब्रोकर्स के पास मान्य है।

डीमैट खाते के फायदे

1.कम लागत

आजकल के डिजिटल जमाने में हम कोई भी दस्तावेज physically संभाल के नहीं रख पाते और अगर सच पुछा जाए तो यह काम बहुत कठिन है।

2. कहीं से भी Access कर सकते हैं

3. IPO में निवेश

4. स्टॉक मार्केट में उतार चढ़ाव के फायदे

अगर मार्केट में उछाल आता है तो आप अपने शेयर्स को बेच सकते हैं। वहीं अगर आपके पास शेयर्स फिजिकल अवस्था में हैं फिर आप मार्केट conditions का ज्यादा लाभ नहीं ले सकते।

एक निवेशक कितने Demat खाते ओपन कर सकता है?

एक निवेश, किसी भी Broker के पास एक pan कार्ड के द्वारा सिर्फ एक ही खाता खोल सकता है। लेकिन वह अलग अलग brokers के साथ कितने भी Demat खाते खोल सकता है इसकी कोई सीमा नहीं होती।

Multiple Demat खातों के फायदे

  • Investmet और Trading खातों को अलग अलग track कर पाना आसान हो जाता है।
  • Trading खाता किसी डिस्काउंट Broker के साथ वही Investment खाता किसी full service Broker के साथ खोला जा सकता है।
  • यदि किसी एक broker के साथ problem होती है तब बहुत ही आसानी से Investment को transfer किया जा सकता है।
  • अगर आप एक खाते से Trading अथवा दूसरे से Long Term निवेश करते हैं तो Profits और losses की आसान tracking हो जाती है।
  • Multiple Demat खातों में अगर आप अलग अलग बैंक खाते add करते हैं तो आपके बैंक Statement records भी स्पष्ट होते हैं।

ट्रेडिंग अकाउंट के लाभ (Benefits of a Trading Account)

  • बदलती टेक्नोलॉजी के कारण Online Trading की सुविधा से शेयर की खरीद बिक्री बहुत ही आसान हो गई है।
  • शेयर खरीदने पर पैसा कटना और बेचने पर पैसा जमा होना यह सभी ऑटोमैटिक हो जाता है।
  • ऑनलाइन ट्रेडिंग की सुविधा की वजह से लिखित या कॉल कर के ऑर्डर देने की जरुरत नहीं रहती। और भेजा गया ऑर्डर बहुत जल्दी कम्पलीट हो जाता है।
  • सिर्फ एक मोबाइल के द्वारा किसी भी जगह से शेयर खरीद और बेच सकते है।

ज्यादातर लोग Trading और Demat Account एक साथ खुलवाने की वजह से इन दोनों के बिच का फर्क नहीं जानते। लेकिन इन दोनों के बिच बहुत बड़ा फर्क होता है। Demat Account एक ऐसी जगह है जिसमे आपके द्वारा ख़रीदे गए शेयर को रखा जाता है। इस लिए यह एक स्टोरेज की तरह होता है, जिसमे कोई शेयर खरीदने पर शेयर जमा होता है, और बेचने पर शेयर निकल जाता है।

रेटिंग: 4.80
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 523