मांगे न मानने पर आंदोलन की चेतावनी
सकल व्यापारी संघ ने अपने ज्ञापन में यह स्पष्ट किया कि य उक्त मांगों का जल्द ही निराकरण करें। अन्यथा व्यापारी महासंघ आंदोलन करने को मजबूर होगा। इस अवसर पर दौरान व्यापारी महासंघ के संरक्षक राजेन्द्र अग्रवाल, अरविन्द जैन, सचिव रामकुमार शिवनी, केके चौबे, पार्षद शुभम राजपूत, राजेश भवरे, दीपक जैन, रमेश सोनी, कुलदीप साहू, मनोज प्रजापति, लक्ष्मण मालवीय, झुम्मक पाल सहित अन्य व्यापारी उपस्थित रहे।

निर्माणाधीन गोडाउन का काम बंद करने की मांग: सकल व्यापारी संघ बाजार आंदोलन का प्रभाव ने कहा- मांगें नहीं मानने पर दी आंदोलन की चेतावनी

नगर के मुख्य बाजार में सहकारी विभाग खाद गोदाम बना रहा है। इससे व्यापारियों में आक्रोश है। बाजार में आए दिन जाम लगने के कारण एक और जहां उनका व्यापार पिट रहा है। दूसरी ओर ग्राहक भी परेशान हो रहे हैं। ऐसे में गोडाउन के बनने से उन्हें और अधिक समस्याओं का सामना करना पड़ेगा।

इस समस्या से बचने के लिए आज व्यापारी संघ बाजार आंदोलन का प्रभाव ने स्थानीय प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारियों को ज्ञापन सोते हुए तत्काल प्रभाव से गोदाम निर्माण कार्य बंद करने की बाजार आंदोलन का प्रभाव बात कही। ज्ञापन में चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उनकी मांगों को तत्काल प्रभाव से नहीं गया तो व्यापारी आंदोलन के लिए मजबूर होंगे।

व्यापार होगा प्रभावित

सकल व्यापारी संघ के अध्यक्ष विमल जैन ने बताया कि उन्होंने शासन प्रशासन को गोदाम बनने के बाद व्यापरियों को होने वाली समस्याओं से अवगत कराते हुए बुधवार को ज्ञापन सौंपा है। जिसमें अपनी चार मांगों को पर भी बाजार आंदोलन का प्रभाव विचार करने के लिए कहा है। उन्होंने बताया कि श्री राधे कृष्ण चौक पर सोसायटी परिसर में 200 मैट्रिक टन की क्षमता का गोदाम निर्माण का काम प्रारंभ हो गया है। गोदाम तैयार होने के बाद बाजार में भंडारण सहित वितरण के लिए भारी वाहनों का आवागमन होगा। जिससे बाजार में अव्यवस्था बाजार आंदोलन का प्रभाव फैलेगी। अभी बाजार में अतिक्रमण के चलते आम दिनों में चार पहिया वाहनों का निकलना भी मुश्किल होता है। ऐसे में यदि ट्रक सहित किसानों के ट्रैक्टर-ट्राली आने से व्यापार प्रभावित होगा।

भोपाल में रविवार को मंडियां रही बंद, सब्जी बाजार पर दिखा असर

भोपाल में रविवार को मंडियां रही बंद, सब्जी बाजार पर दिखा असर

करीब 6 से 7 हजार क्विंटल तरकारी पूर्ति ग्रामीण क्षेत्रों से ही होती है। बाकी शहर के बाजार आंदोलन का प्रभाव आसपास के इलाकों से थोक-फुटकर सब्जी व्यापार किया जाता है। प्रतिदिन आपूर्ति के हिसाब से रविवार को सब्जी की आवक कम रही। इसी कारण थोक और फुटकर बाजार के दामों में इजाफा दिखाई दिया।

मुरैना में टमाटर का भाव हुआ दोगुना, भिंड में कंट्रोल रूम बनाया

ग्वालियर। ग्वालियर चंबल संभाग में किसान आंदोलन गांव बंद का तीसरे दिन भी कोई खास देखने को नहीं मिला। मुरैना में जरूर टमाटरों के भाव दोगुना हो गए तो वहीं भिंड प्रशासन ने कंट्रोल रूम की स्थापना कर दी है। बाजार आंदोलन का प्रभाव शिवपुरी-श्योपुर में प्रशासन को छोड़कर इस आंदोलन को कोई सुगबुगाहट नहीं है। ज्यादातर जिलों में प्रशासन ने छह जून की तैयारियां जरूर शुरू कर दी हैं।

ऑनलाइन ट्रेड में FDI के दुरुपयोग के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन, राजस्थान में भी बंद का आह्वान

8 जनवरी को राजस्थान में रिटेल मोबाइल आउटलेट्स ठप रहेगा, इसमें जयपुर बंद भी शामिल रहेगा, जिसके चलते ग्राहकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ेगा. क्योंकि खत्म होते खुदरा बाजार बाजार आंदोलन का प्रभाव और रिटेल बाजार के चलते दिल्ली में 6 से 8 जनवरी तक अधिवेशन आयोजित होगा. जिसमें राजस्थान से TRCA जो AIMRA भी आंदोलन में शामिल रहेगी.

जयपुर. ऑनलाइन ट्रेड और ऑनलाइन शॉपिंग एप संचालक कंपनीयां भारतीय खुदरा बाजार को क्षति पहुंचाने के साथ ही सरकार और आम ग्राहकों से भी छल पूर्वक व्यापार का संचालन कर रही है. जिसके प्रभाव से रिटेल बाजार खत्म बाजार आंदोलन का प्रभाव सा हो रहा है और काम धंधे चौपट हो रहे हैं.

ऐसी ऑनलाइन कंपनियां फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट करके अपनी लॉसेज दिखाकर पैसा इंडिया से सेल आउट करवा रही है. बड़े डिस्काउंट देकर व्यापार करने वालों में टॉप 90 फीसदी ट्रेड 18 कंपनियां ऑनलाइन के माध्यम से बाजार आंदोलन का प्रभाव देश में कर रही है. बाकी शेष 5 फीसदी रिटेल के माध्यम से व्यापार कर रहे हैं. जिसके विरोध में AIMRA, CAIT और TRCA के संयुक्त बैनर तले आंदोलन किया जा रहा है.

रेटिंग: 4.51
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 93