BHARAT Bond FOF - April 2023 Regular - Growth

Fund Key Highlights
1. Current NAV: The Current Net Asset Value of the BHARAT Bond FOF - April 2023 - Regular Plan as of @@[email protected]@ is Rs @@[email protected]@ for Growth option of its Regular plan.
2. Returns: Its trailing returns over different time periods are: 3.48% (1yr) and 6.34% (since launch). Whereas, Category returns for the same time duration are: 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड 1.46% (1yr), 0.0% (3yr) and 0.0% (5yr).
3. Fund Size: The BHARAT Bond FOF - April 2023 - Regular Plan currently holds Assets under Management worth of Rs 3154.81 crore as on Sep 30, 2022.
4. Expense ratio: The expense ratio of the fund is 0.06% for Regular plan as on Sep 30, 2022.
5. Exit Load: BHARAT Bond FOF - April 2023 - Regular Plan shall attract an Exit Load, "Exit load of 0.10% if redeemed within 30 days."
6. Minimum Investment: Minimum investment required is Rs 1000 and minimum additional investment is Rs 1000. Minimum SIP investment is Rs 500.

No Data Available.

No Data Available.

No Data Available.

No Data Available.

No Data Available.

No Data Available.

About Fund
1. BHARAT Bond FOF - April 2023 - Regular Plan is Open-ended Target Maturity Debt scheme which belongs to Edelweiss Mutual Fund House.
2. The fund was launched on Dec 27, 2019.

Investment objective & Benchmark
1. The investment objective of the fund is that " The scheme seeks to generate returns by investing in units of BHARAT Bond ETF - April 2023. "
2. It is 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड benchmarked against NIFTY Bharat Bond Index Series - April 2023.

Asset Allocation & Portfolio Composition
1. The portfolio allocation of debt securities primarily have 2 kinds of risks: interest rate risk & credit risk. While the interest rate movements are driven by the fund's duration, credit quality of debt securities are based on the weighted average credit ratings of a fund. Generally, funds with high credit quality will have the weighted average credit rating of AA- and higher rated securities, funds with medium credit quality will hold securities having credit rating lying between A- to BBB- and funds with low credit quality will hold securities having average credit rating of less than BBB-. Credit rating is a qualitative tool that basically assesses the creditworthiness and financial soundness of a company and takes into consideration several factors including the default rate and solvency of the concerned business entity.
2. The portfolio of the fund has securities with varying levels of maturities. Duration takes into consideration the sensitivity of the average maturity of these securities with respect to the interest rate changes. The Average Maturity of BHARAT Bond FOF - April 2023 - Regular Plan is 0.5 years and Duration is 0.46 years. Generally, securities with high maturity are more sensitive to interest rate changes. So, an investor with a low risk appetite may look to invest in a fund with low maturity and duration vis-a-vis category levels.
3. All these parameters - average maturity, duration, interest rate changes, credit quality, credit rating, liquidity etc. need to be looked at in conjunction with each other to determine the quality of portfolio of a fund.

Tax Implications
1. If units are redeemed within 3 years of investment, the whole amount of gain will get 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड added to the investor's income and will be taxed as per his/her applicable slab rate.
2. For units redeemed after 3 years of investment, gains will be taxed at a rate of 20% post indexation benefits. Indexation is a process of recalculating the purchase price after accounting for inflation into it. The benefit of indexation lies in lowering down one's capital gains which brings down the taxable income and thereby reduces taxes on it.
3. For Dividend Distribution Tax, the dividend income from this fund will get added to the income of an investor and taxed according to his/her respective tax slabs.
4. Also, for dividend income in excess of Rs 5,000 in a financial year; the fund house shall deduct a TDS of 10% on such income.

Future Investment: डेट फंड दिलाएगा बेस्ट रिटर्न! पूरी तरह सुरक्षित रहेगा आपका पैसा रहेगा, ये हैं 4 बेनिफिट्स

Future Investment: अगर आप अभी से फ्यूचर की प्लानिंग करना चाहते हैं तो आपके लिए अच्छा मौका है. डेट फंड के जरिए आप फिक्स्ड 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड डिपॉजिट की तरह अच्छा रिटर्न पा सकते हैं.

Future investment: अगर आप भविष्य के लिए आज से ही फाइनेंशियल प्लानिंग (Financial Planning) शुरू करेंगे, तो आपके लिए बेहतर होगा. क्योंकि भविष्य में आने वाले खर्च बहुत बढ़ने वाले हैं. चाहें बात फिर घर खर्च की हो या फिर पढ़ाई और शादी के खर्च की. स्मॉल सेविंग्स के जरिए आप अभी से पैसा जोड़ सकते हैं. इसके लिए हम आपके लिए डेट फंड का ऑप्शन लेकर आए हैं. डेट फंड असल में म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) है. इसमें इन्वेस्टर्स बैंक की फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposit) या फिर स्मॉल सेविंग्स स्कीम (Small Savings scheme) के अल्टरनेट के रूप में इन्वेस्ट कर सकते हैं. जैसे कि सरकारी सिक्योरिटी, कॉर्पोरेट बॉन्ड्स और ट्रेजरी बिल्स. फिक्स्ड डिपॉजिट का 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड समय पूरा होते ही डेट फंड आपको FD रेट पर अच्छा खास रिटर्न देता है.

सुरक्षित रहेगा आपका पैसा

ICICI पर जारी डीटेल के अनुसार, 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड डेट फंड का उद्देश्य केवल इन्वेस्टर्स को सुरक्षित इन्वेस्टमेंट के साथ फायदा पहुंचाना है. बता दें डेट फंड को लिक्विड फंड भी कहा जाता है. क्योंकि 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड इसमें लिक्विडिटी की भी कोई समस्या नहीं होती है. इसका मतलब ये कि आप अपना पैसा कभी भी निकाल सकते हैं.

Zee Business Hindi Live TV यहां देखें

Debt Funds में इन्वेस्ट करने के 4 बेनिफिट्स

स्टेबल फंड्स

डेट फंड में रिटर्न आमतौर पर हमेशा एक जैसा रहता है. इसके रेट्स में मार्केट के चलते कभी बदलाव नहीं दिखता है. ऐसे में अगर आपको इन्वेस्ट करने में डर लग रहा है, तो ये आपके लिए सुरक्षित ऑप्शन है. वहीं अगर आप कुछ समय के लिए अपनी फाइनेंशियिल प्लानिंग करना चाहते हैं, तो Debt Funds बेस्ट है.

लोवर फीस

Debt Funds में 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड आप Equity और म्यूचुअल फंड्स के मुकाबले कम पैसों से निवेश कर सकते हैं. अक्सर इन्वेस्टर्स डेट और म्यूचुअल फंड स्कीम्स को ही चुनते हैं, जिससे TDS पर कोई असर नहीं पड़ता है. हालांकि अगर आप फंड यूनिट को बेचते हैं, तो आपको इन्वेस्टमे्ंट के दौरान चैक्स देना पड़ेगा.

आमतौर पर ऐसी योजनाओं में इन्वेस्टर्स का पैसा सरकारी सिक्योरिटी, बॉन्ड और कॉर्पोरेट डिबेंचरों में लगाया जाता है. हालांकि, इस तरह के फंडों से इक्विटी फंडों (Equity Fund) के मुकाबले कम रिटर्न मिलता है.

दरअसल यह फंड इक्विटी फंडों की तुलना में कम जोखिम भरे हैं. इनका इक्विटी बाजार के उतार चढ़ाव से कोई मतलब नहीं. बता दें लॉन्ग टर्म में कई डेट फंड ने बैंक एफडी की तुलना में 1.5 से 2 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड फीसदी ज्यादा रिटर्न दिया है. ज्यादातर बैंक जहां एफडी करने पर 5.75 फीसदी से 6.75 फीसदी या 7 फीसदी के बीच रिटर्न दे रहे हैं.

कम जोखिम, बेस्ट रिटर्न

Debt Fund में अगर आप इन्वेस्ट करते हैं, तो आपको बेहतर रिटर्न मिलेगा. क्योंकि म्यूचअल फंड (Mutual Fund) में इन्वेस्टमेंट सबसे ज्यादा फायदा देने वाला सौदा माना जाता है. ऐसा अक्सर होता है कि फिक्स्ड डिपॉजिट के मुकाबले डेट म्यूचुअल फंड में ज्यादा रिटर्न मिलता है.

Debt funds से मिलने वाला पैसा टैक्स के दायरे में आता है. डेट फंड को 3 साल के बाद भुनाने पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स (LTCG) लगता है. 3 साल के पहले डेट म्यूचुअल फंड यूनिट्स को बेचने के बाद जो मुनाफा होता है, उसा शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स चुकाना पड़ता है.

Money Guru: SIP की बहार मुनाफा बेशुमार! पोर्टफोलियो में शामिल करें ये फंड, मिलेगा मोटा रिटर्न

Money Guru: एसआईपी के जरिये निवेश के लिए सही फंड (best funds to invest in SIP) का चुनाव बेहद जरूरी है. साथ ही भारी उतार-चढ़ाव वाले मार्केट में फिलहाल निवेशकों को क्या करना चाहिए, इसे भी समझना चाहिए.

Money Guru: म्यूचुअल फंड्स (mutual funds)में निवेश बेशक मार्केट रिस्क से जुड़ा है. लेकिन यह इनडायरेक्ट तौर पर प्रभावित होता है. इसमें आप सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी एसआईपी (SIP) के तहत हर महीने छोटी रकम निवेश करते हैं. इसमें आपको बेहतर रिटर्न मिलने की पूरी संभावना होती है. ऐसे में एसआईपी के जरिये निवेश के लिए सही फंड (best funds to invest in SIP) का चुनाव बेहद जरूरी है. साथ ही भारी उतार-चढ़ाव वाले मार्केट में फिलहाल निवेशकों को क्या करना चाहिए, ऐसे ही सवालों के जवाब यहां आनंदराठी वेल्थ लिमिटेड के म्यूचुअल फंड हेड, श्वेता रजानी और वाइजइन्वेस्ट प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ हेमंत रुस्तगी से जान लेते हैं.

SIP के जबर्दस्त आंकड़े
सितंबर में रिकॉर्ड स्तर पर SIP निवेश
सितंबर में SIP इनफ्लो 2% बढ़ा(MoM)
सितंबर में SIP के जरिए ₹12,980 करोड़ निवेश
SIP खातों में भी बढ़त देखने को मिली
सितंबर में SIP खातों की संख्या 5.83 करोड़ पर
अगस्त में SIP खातों के आंकड़े 5.71 करोड़ रहे

SIP से बढ़ता निवेश
महीना निवेश
अप्रैल 2022 ₹11863 करोड़
मई 2022 ₹12286 करोड़
जून 2022 ₹12276 करोड़
जुलाई 2022 ₹12140 करोड़
अगस्त 2022 ₹12693 करोड़
सितंबर 2022 ₹12980 करोड़

इक्विटी ही पहली पसंद
सितंबर में इक्विटी MF में नेट इनफ्लो 130% बढ़ा
इक्विटी निवेश 130% की बढ़त के साथ ₹14100 करोड़ पर
अगस्त में निवेश का आंकड़ा सिर्फ ₹6120 करोड़ था
MF इंडस्ट्री का नेट AUM ₹38.42 लाख करोड़ रहा

कहां कितना निवेश?
बैलेंस्ड एडवांटेज फंड में ₹760 करोड़ का इनफ्लो
हाइब्रिड फंड में पिछले महीने के मुकाबले कम निकासी
आर्बिट्राज फंड में लगातार चौथे महीने निकासी के आंकड़े
डेट फंड से कुल ₹65,372 करोड़ की निकासी
डेट में लिक्विड फंड में ₹59,970 हजार की निकासी
अल्ट्रा शॉर्ट ड्यूरेशन से ₹8454 करोड़,लो ड्यूरेशन से ₹7659 करोड़ निकले
गिल्ट फंड और ओवरनाइट फंड में निवेश के आंकड़े
गोल्ड ETF में भी सकारात्मक रुझान देखने को मिला
गोल्ड ETF में सितंबर में ₹330 करोड़ निवेश के आंकड़े

डेट MF का फीका प्रदर्शन
डेट स्कीम से सितंबर में निवेशकों 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड ने पैसे निकाले
सितंबर में डेट MF से ₹65372 करोड़ निकले
अगस्त में डेट स्कीम में ₹49164 करोड़ का निवेश हुआ था
जून और अप्रैल में भी डेट स्कीम से निकासी के आंकड़े आए थे
जून में ₹92248 और अप्रैल में ₹32722 करोड़ की निकासी हुई

इक्विटी पर भरोसा क्यों?
वैश्विक मंदी की आशंका के बीच,भारत में बेहतर अवसर
निवेशकों का भारतीय शेयर बाजार में भरोसा बढ़ा है
इक्विटी में निवेश के बेहतर मौके बन रहे हैं
डेट फंड पर काफी हद तक बढ़ती ब्याज दरों का असर
सितंबर में आए कई NFO ने भी सेंटिमेंट को मजबूत किया

म्यूचुअल फंड (mutual funds) गाइड
निवेश पोर्टफोलियो कैसे बनाएं?
-निवेश जारी रखें
-एसेट एलोकेशन का ध्यान रखें
-डायवर्सिफाइड निवेश करें
-पोर्टफोलियो रिव्यू करें
-आर्थिक सलाहकार की मदद लें

फ्लेक्सी/मल्टी कैप फंड
हेमंत रुस्तगी की राय
Nippon India Multi-cap Fund
PGIM Flexi-cap Fund

मिडकैप फंड
हेमंत रुस्तगी की राय

Kotak Emerging Equity Fund
Motilal Midcap Fund

लार्ज एंड मिडकैप फंड
हेमंत रुस्तगी की राय

ICICI Pru. Large & Mid-cap
HDFC Large & Mid-cap Fund

एग्रेसिव इक्विटी हाइब्रिड फंड
हेमंत रुस्तगी 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड की राय

Share Market: NIFTY 50, म्यूचुअल फंड, इक्विटी में करना है निवेश? जानें तरीके

Share Market: म्यूचुअल फंड में निवेश करने के फायदे क्या हैं ?

Share Market: NIFTY 50, म्यूचुअल फंड, इक्विटी में करना है निवेश? जानें तरीके

शेयर मार्केट (Share Market) का नाम लेते ही सबके मन में एक ही सवाल आता है क्या पैसे डूब तो नहीं जाएंगे ? मार्केट में निफ्टी (Nifty) की बात करें तो 52 हफ्तो में ये उच्चतम 18887.60 तक गया वहीं 52 हफ्तो में निफ्टी का सबसे कम स्तर 15183.40 का था. वहीं 52 हफ्तों में सेंसेक्स (Sensex) 63583.07 के स्तर पर उच्चतम था और सबसे निचला स्तर 50921.22 पर रहा.

शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए होड़ लगी है. लेकिन मार्केट की जानकारी लिए बिना काफी लोग अपना नुकसान भी करा लेते हैं. तो चलिए समझते है कि क्या है शेयर मार्केट और इसमें कैसे इंवेस्ट करते हैं.

घबराइए मत हम आपको आसान भाषा में समझाएंगे कि आखिर ये निफ्टी 50, म्यूचुअल फंड, इक्विटी और लिक्विड फंड क्या है और इनके फायदे-नुकसान क्या हैं?

निफ्टी 50

निफ्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange) पर लिस्टेड 50 प्रमुख कंपनी के शेयरों का सूचकांक (Index) है. NIFTY दो शब्द से बना है पहला नेशनल और दूसरा फिफ्टी. निफ्टी का मतलब नेशनल स्टॉक एक्सचेंज है और Fifty उन कंपनियों के समूह के बारे में बताता है जो नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड टॉप पचास शेयर हैं. यहां आप अपनी मन पसंदीदा कंपनी जैसे अडानी पोर्ट्स, बजाज ऑटो, एयरटेल, एचडीएफसी, एसबीआई, टाटा मोर्टस और विप्रो के शेयर खरीद सकते हैं. जितना बाजार अच्छा प्रदर्शन करेगा उसका पोर्टफोलियो उतना ही हरा नजर आएगा.

लिक्विड फंड (Liquid Fund)

लिक्विड फंड एक प्रकार का डेट फंड (Debt Fund) होता है. ये आपके पैसों को डेट और मनी मार्केट में जैसे कमर्शियल पेपर, कॉल मनी, सरकारी सिक्यॉरिटी, ट्रेजरी बिल में निवेश करता है. इस फंड में 91 दिनों की मैच्योरिटी पीरियड होती है. अब ये सवाल आता है कि लिक्विड फंड में निवेश करने से क्या फायदा होगा? तो लिक्विड फंड में इंवेस्ट करने से आपको अधिक लिक्विडिटी मिलती है, एग्जिट करने पर कोई फीस नहीं लगती, कम जोखिम और अधिक रिटर्न मिलता है.

लिक्विड फंड 2023 में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ लिक्विड फंड के फायदे (Benefit of Liquid Fund)

कम व्यय अनुपात (Low Expense Ratio)

नो लॉक-इन पीरियड (No Nock-in Period)

बेहतर रिटर्न (Good Return)

अत्यधिक तरल (इससे निवेशक के द्वारा लगाए गए पैसो में तेजी से बदलाव होता है. ये कम या ज्यादा हो सकता है.

कम जोखिम (Low Risk)

लिक्विड फंड के नुकसान (Disadvantages of Liquid Funds)

लिक्विडिटी रिस्क (इस निवेश में ये देखा जाता है कि निवेशक का निवेश बाजर के जोखिम के निर्भर होता है.)

Mutual Fund सही तो है पर कौन सा? रिस्‍क से लेकर लॉक-इन पीरियड तक, सबकुछ जानिए

Mutual fund (MF) Investments: म्‍युचुअल फंड्स में इनवेस्‍टमेंट करना समझदारी का सौदा साबित हो सकता है अगर आप अपनी जरूरत के हिसाब से सही फंड चुनें। जानिए कितने तरह के म्‍युचुअल फंड्स होते हैं।

आपके लिए कौन सा म्‍युचुअल फंड सही है?

आपके लिए कौन सा म्‍युचुअल फंड सही है?

म्‍युचुअल फंड्स में निवेश केवल मार्केट रिस्‍क कवर भर तक सीमित नहीं है। ज्‍यादा रिस्‍क में ज्‍यादा मुनाफा कमाने का मौका है तो SIP के जरिए लॉन्‍ग-टर्म इनवेस्‍टमेंट भी किया जा सकता है। म्‍युचुअल फंड्स कई कैटिगरीज में आते हैं। आप अपनी रिस्‍क क्षमता और इनवेस्‍टमेंट गोल के आधार पर सही म्‍युचुअल फंड चुन सकते हैं।

इक्विटी फंड और ELSS क्‍या हैं?

इक्विटी फंड और ELSS क्‍या हैं?

इक्विटी फंड्स ऐसे म्‍युचुअल फंड्स होते हैं जो कम से कम 65% इनवेस्‍टमेंट इक्विटी या उससे जुड़े इंस्‍ट्रुमेंट्स में करते हैं। इनकी 100% इनवेस्‍टमेंट इक्विटी में हो सकती है। मार्केट्स में उतार-चढ़ाव का सबसे ज्‍यादा असर इन्‍हीं फंड्स पर पड़ता है। इक्विटी फंड्स के जरिए लॉन्‍ग-टर्म में अच्‍छी-खासी संपत्ति बनाई जा सकती है। मार्केट फ्लक्‍चुएशंस से निपटने के लिए आपको 3 साल से ज्‍यादा के लिए इनवेस्‍ट करना चाहिए। ELSS या इक्विटी लिंक्‍ड सेविंग्‍स स्‍कीम इन्‍हीं की सब-कैटिगरी है जिसमें निवेश पर इनकम टैक्‍स ऐक्‍ट की धारा 80C के तहत टैक्‍स में छूट मिलती है लेकिन इनका लॉक-इन पीरियड 3 साल होता है।

रेटिंग: 4.21
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 241