नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE): NSE 1992 में स्थापित हुई थी, एनएसई में कुल 7200+ कंपनियां लिस्टेड हैं। हालांकि BSE पुराना है लेकिन NSE ट्रेडिंग में अधिक सक्रिय रूप से शामिल है और इसका टर्नओवर रेट अधिक है।

Share-market-chart-kaise-samjhe

Share market chart kaise samjhe | शेयर मार्किट चार्ट एनालिसिस

Share market chart kaise samjhe– दोस्तों अगर आपको सही समय पर अच्छा मुनाफा कमाई करना है तो शेयर मार्किट चार्ट एनालिसिस करना जरुर आना चाहिए। इससे आप कम समय में ही अपने नुकशान को कम करके बहुत अच्छा रिटर्न कमाई कर चकते हो।

अगर आप बिना सीखे शेयर मार्केट में ट्रेडिंग या इन्वेस्टमेंट करते हो तो आप एकतरह से जुआ खेल रहे हो इससे आपको नुकशान होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाता हैं। आपको पता होना चाहिए कब स्टॉक को खरीदना चाहिए और कब प्रॉफिट कमाई करके बेचना चाहिए।

इसी को जानने के लिए आपको Share Market के चार्ट को अच्छी तरह समझना बहुत जरुरी हैं। क्यूंकि इसी से ही आपको पता लगेगा स्टॉक ऊपर या नीचे जाने की कितने ज्यादा संभावना हैं।

Share market chart kaise samjhe

ज्यादातर रिटेल निवेशक किसी भी चार्ट को खोलते ही उनके मन में इस चार्ट में देखे किया और शुरु कहा से करे ये सवाल जरुर आता हैं। शेयर मार्केट में किसी भी चार्ट को समझने के लिए सबसे पहले बहुत ज्यादा अभ्यास की जरुरत पड़ती हैं। उसके बाद ही काम आएगा आपका विश्लेषणात्मक कौशल जो आपको प्रयोग करना होगा उस चार्ट में।

Chart का Trend देखना चाहिए:- किसी भी स्टॉक के चार्ट अच्छी तरह से समझने के लिए आपका सबसे पहला काम होना चाहिए उस शेयर के Trend किस तरफ जा रहा हैं। उसको अच्छी तरह से देखना बहुत जरुरी हैं। वैसे तो चार्ट में 3 तरह का Trend देखने को मिलेगा। इन तीनो Trend के अन्दर से कोई Stock मार्किट का गणित क्या होता है? ना कोई एक Trend में वो स्टॉक या Chart जरुर फॉलो कर रहा होगा। और इन ट्रेन्ड में काम करने के तरीका भी अलग अलग होता हैं।

  • Up Trend:- इस Trend का मतलब है Higher Top and Higher Bottom। जब भी चार्ट इस Trend को फॉलो करेगा आपको लगातार स्टॉक सीढ़ी की तरह ऊपर जाते ही नजर आएगा। Stock मार्किट का गणित क्या होता है? तब आपको हमेसा उस स्टॉक को खरीदना चाहिए।

शेयर मार्केट चार्ट कैसे समझे और कमाई

रिस्क और रिवॉर्ड विश्लेषण:- अगर आप ऊपर दिए गए स्टेप को फॉलो करके कोई चार्ट को सेलेक्ट किया हो तो आपको उस चार्ट का Support और Resistant को ध्यान से देखना चाहिए। उसके बाद आपका Stop Loss वोही होना चाहिए जहा उस चार्ट ने हाल ही में कोई Support लेके ऊपर की तरफ गया हैं।

जहा पर Support लिया है स्टॉक ने, वहा आपको Stop Loss लगाना चाहिए। लेकिन ध्यान में रखना चाहिए आपका Stop Loss बहुत दूर ना हो। अगर आपको लगता है की रिस्क बहुत कम है और रिवॉर्ड बहुत ज्यादा मिल चकता है तभी आपको उस चार्ट में ट्रेड लेना चाहिए।

पतियोगी स्टॉक के चार्ट:- आप जिस भी स्टॉक के चार्ट को सेलेक्ट किया हो बाकि पतियोगी कंपनी को भी देखना चाहिए कैसा पदर्शन कर रहा हैं। आपको ध्यान में रखना चाहिए वो स्टॉक उस सेक्टर में बाकि पतियोगी कंपनी से बेहतर पदर्शन दिखा रहा हैं।

What is Share Market in Hindi- शेयर बाजार क्या है?

What Is Share Market Stock मार्किट का गणित क्या होता है? in Hindi

बाजार का मतलब होता है ऐसी जगह जहाँ सभी चीजें खरीदी या बेची जा सकती है। ठीक उसी तरह Stock मार्किट का गणित क्या होता है? Share market अर्थ होता है । ऐसी जगह जहां बहुत सारी company लिस्टेड(सूचीबद्ध) होती है,तथा इसके share को खरीदा या बेचा जाता है। यहाँ उन्ही कंपनियों के शेयर खरीदे या बेचे जाते है,जो कंपनियां यहाँ लिस्टेड होती है।

शेयर मार्केट ऐसे मार्केट को कहा जाता है ,जिसमे बहुत से कंपनियां लिस्टेड होती है तथा उनके शेयर को कोई भी खरीद या बेच सकता है।(stock market in hindi) यह ऐसी जगह है जहाँ कुछ लोग या तो बहुत पैसा कमा लेते है बहुत पैसा गवा देते है।कंपनी के शेयर खरीदने का मतलब है आप उस Stock मार्किट का गणित क्या होता है? कंपनी के कुछ प्रतिशत के हिस्सेदार है, आप जितने शेयर खरीदते है आप उतने प्रतिशत उस कंपनी के हिस्सेदार है। इसका मतलब यह है कि यदि कंपनी का अच्छा मुनाफा हुआ तो आपका पैसा कई गुना हो जाएगा और Stock मार्किट का गणित क्या होता है? उसका उल्टा यदि कंपनी को घाटा या नुकसान हुआ तो आपका पैसो का भी नुकसान होगा। जिस तरह शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट में पैसा कमाना आसान है ठीक उसी तरह उसे गवाना भी आसान है,क्योकि स्टॉक मार्केट में उतार चढ़ाव होते रहते है ।

शेयर मार्केट के बारे में झूठी बाते(Myth) :-
शेयर मार्केट के बारे में जानने से पहले उसके Myth के बारे में जान लेते है जिन्हें हम सभी लोगो को जानना एवं हटाना चाहिए :-

1)Myth no.1:- शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट में इन्वेस्टमेंट करना बहुत ही रिस्की है।कुछ लोग इसी डर से स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट नही करते क्योकि उन्हें लगता है कि यह बहुत रिस्की है।मेरे से यदि पूछो तो मैं बोलुँगा की यह रिस्की है पर सिर्फ Short Term के लिये Long Term के लिये नही ।

इसे समझने के लिये यह सेंसेक्स के past का परफॉर्मेंस देखते है ,जिसमे आप देख सकते है कि यह कैसे long term में ऊपर ही जा रहा है तो मैं कहूंगा कि यह रिस्की है पर सिर्फ sort term के लिये long term के लिये नही।

2)Myth no.2:- आपके पास फाइनेंस का बहुत ज्यादा ज्ञान होना चाहिए :- शेयर मार्केट ऐसे चीज है ना जिसमे कोई भी इंसान चाहे वह किसी भी begraund से हो यदि वह लगन से इसमें काम करे न तो वह एक अच्छा इनवेस्टर बन सकता है।इसमे केवल धैर्य की और अच्छे अच्छे ज्ञान की जरूरत होती है जिसे बूक पड़ के प्राप्त कर सकते है।

शेयर मार्किट क्या होता है | स्टॉक मार्किट क्या होता है | शेयर मार्किट से पैसे कैसे कमाए

शेयर बाजार ( share market ) की शुरुआत वर्ष 1957 में हुई थी शेयर मार्किट ( stock market ) एक ऐसा मार्किट होता है जहाँ पर कम्पनिया के शेयर बेचे और खरीदे जाते है अगर कोई वयक्ति किसी कंपनी के शेयर खरीदा लेता है तो बहा वयक्ति उस कंपनी का पार्टनर बन जाता है इसके बाद अगर कंपनी में लाभ होगा तो आपका लाभ होगा और अगर कंपनी में हानि होगी तो उसकी भी हानि होगी शेयर मार्किट में शेयर की कीमत लगातार बडती और घटती रहती है शेयर मार्किट में बढ़िया पैसे कमाने के लिए आपको सही के कीमत पर बिशेष ध्यान देना होता है

जैसे की अगर आप किसी भी कंपनी का एक शेयर 100 रूपए का खरीदते है और 10 दिन की बाद उसे शेयर की कीमत 120 रूपए हो जाती है तो आपके लिए उस एक शेयर पर 20 रूपए की लाभ हो जायेगा और अगर उस शेयर की कीमत 80 रूपए या इस से भी काम हो जाती है तो आपके लिए 20 रूपए की हानि हो जायगी

शेयर कैसे खरीदे ( share kaise khrede )

अब आपके मन में सवाल होगा की शेयर मार्किट में शेयर खरीदा और बेचा कैसे जाता है तो आपके आपके लिए शेयर खरीदने और बचने के बारे में सारी जानकारी डिटेल्स में बताने बाले है शेयर मार्किट में अब आप किसी भी कप्म्पनी के शेयर घर बैठे आपने मोबाइल कंप्यूटर या लैपटॉप के मदद से बहुत ही आसानी से शेयर को खरीद या बेच सकते है

शेयर मार्किट में अकाउंट ओपन कैसे करे स्टॉक मार्किट में शेयर खरीदने के लिया आपको अपना एक डीमैट अकाउंट ओपन करना होता है Stock मार्किट का गणित क्या होता है? और आप डीमैट अकाउंट किसी भी कम्पनी में करा सकते है जैसे की Groww , zerodha , angelone , upstox ,

Groww Stock मार्किट का गणित क्या होता है? कंपनी में आप अपना डीमैट अकाउंट इस वीडियो को देखा कर सकते हैं इस वीडियो में अकाउंट ओपन का कम्प्लीट प्रोसेस बताया है

What is Share Market in Hindi: शेयर मार्केट भारत में कैसे काम करता है? यहां विस्तार से समझिए

What is Share Market in Hindi: शेयर मार्केट भारत में कैसे काम करता है? यहां विस्तार से समझिए

Share Market in Hindi: शेयर बाजार को लेकर अक्सर आम लोगों के मन में भ्रम की स्थिती रहती है। Share Market के सही नॉलेज से आपको बादशाह बना सकता है। इसलिए इस लेख में जनेंगे कि Share Market kya Stock मार्किट का गणित क्या होता है? Hai? (What is Share Market in Hindi) और यह भारत में कैसे काम करता है?

Share Market in Hindi: ज्यादातर लोग यह कहते है कि शेयर मार्केट बरमूडा ट्रायंगल की तरह है जिसमें वह उलझ कर रह जाते है, जबकि ऐसा नहीं है Share Market को अच्छे से समझ लिया जाएं तो आप इस क्षेत्र के बादशाह बन सकते है। शेयर मार्केट को समझने के लिए आपको राकेट साइंस जैसा दिमाग नहीं लगाना है, आप रिस्क और रिटर्न की क्षमता का आंकलन करके Share Market को अच्छी तरह समझ सकते है। शेयर बाजार ठीक उसी बाजार की तरह है जहां आप सब्जियां खरीदने जाते है, बस Share Market में सब्जियों की जगह शेयरों की खरीद और बिक्री होती है।

Trading Tips: ट्रेडिंग करते समय इन पांच बातों का रखें ख्याल, नहीं डूबेगा शेयर मार्केट में पैसा

Trading Tips: ट्रेडिंग करते समय इन पांच बातों का रखें ख्याल, नहीं डूबेगा शेयर मार्केट में पैसा

Trading Tips: बाजार की मौजूदा उतार-चढ़ाव के बीच ट्रेडर्स को मॉनीटरी रूझान पर निगाह बनाए रखना चाहिए ताकि अपने पैसों को डूबने से बचा सकें. (Image- Pixabay)

Trading Tips: बाजार की मौजूदा उतार-चढ़ाव के बीच ट्रेडर्स को मॉनीटरी रूझान पर निगाह बनाए रखना चाहिए ताकि अपने पैसों को डूबने से बचा सकें. चाहे आप मार्केट में ट्रेड करें या इंवेस्टमेंट, बाजार की इस उतार-चढ़ाव के बीच बेहतर फैसला लेना होता है ताकि रिस्क को घटा सकें और अपने रिटर्न को बढ़ा सकें. हालांकि किसी भी तरीके से आप फैसले लें, ट्रेडिंग करते समय कुछ चीजों का आपको हमेशा ख्याल रखना चाहिए.

अफोर्डेबल रिल्क

अगर सब कुछ आपकी रणनीति के मुताबिक ही रहा तो शेयरों की ट्रेडिंग से आप शानदार मुनाफा कमा सकते हैं लेकिन शेयर मार्केट में उतना ही रिस्क लेना चाहिए जितनी आपकी क्षमता हो. रिस्क का मतलब Stock मार्किट का गणित क्या होता है? है कि आप कितनी पूंजी गंवाने की क्षमता रखते हैं. कभी भी ऐसे पैसे को निवेश करें जिसे आप गंवाना नहीं अफोर्ड कर सकते हैं. कोशिश करें कि शेयर मार्केट में ट्रेडि्ंग पिरामिड अप्रोच के साथ करें. रिस्क पिरामिड का मतलब है कि रिस्क के हिसाब से अपनी पूंजी को बांटकर ट्रेडिंग करना.

‘स्टॉप लॉस’ और ‘टेक प्रॉफिट’ के साथ करें ट्रे़डिंग

ट्रेडिंग के दौरान भाव में उतार-चढ़ाव को लगातार ट्रैक करना लगभग असंभव है. चूकने पर भारी नुकसान भी हो सकता है और बंपर मुनाफा भी. हालांकि रिस्क मैनेज करने के लिए जरूरी है कि आप स्टॉप लॉस का इस्तेमाल करें और बाजार की विपरीत परिस्थितियों में अपने प्रॉफिट को सुरक्षित करें. स्टॉप लॉस का मतलब सौदा शुरू करने से पहले ऐसा प्राइस लेवल तय करना है जिसके नीचे आप रिस्क नहीं लेना चाहते हैं. वहीं दूसरी तरफ टेक प्रॉफिट एक लिमिट ऑर्डर है जिसका इस्तेमाल एक खास भाव पहुंचने पर मुनाफा कमाने के लिए किया जाता है.

ट्रेडिंग में संभवतः टाइम फैक्टर सबसे महत्वपूर्ण टूल है. बाजार को लेकर सटीक अनुमान से आप बेहतर मुनाफा कमा सकते हैं. काफी समय पहले फॉरेक्स ट्रेडर्स को स्टॉक एक्सचेंज ऑफिसों से फॉरेक्स मार्केट के उतार-चढ़ाव की जानकारी लेनी होती थी लेकिन अब तकनीक का जमाना आ गया है जिससे ट्रेडर्स को रीयल टाइम में मार्केट डेटा मिल जाता है.

अपना रिसर्च करें

शेयरों की खरीद-बिक्री से पहले रिसर्च जरूर करना चाहिए. इससे आपको यह तय करने में आसानी होगी कि किस भाव पर आपको अपनी पोजिशन को स्क्वॉयर ऑफ करना है. शेयर मार्केट से पैसे बनाने के लिए हमेशा किस्मत ही नहीं, एनालिसिस भी बहुत महत्पूर्ण भूमिका निभाती है. बाजार के रूझानों की बजाय स्पष्ट संकेत मिलने पर ही ट्रेडिंग करें. फंडामेंटल रूप से मजबूत कंपनी में निवेश कपना बेहतर फैसला है.

अगर आप शेयरों की खरीद-बिक्री यानी ट्रेडिंग करते हैं तो आपको एक स्ट्रेटजी के साथ मार्केट में प्रवेश करना चाहिए. इससे आपको यह स्पष्ट रूप से पता रहेगा कि आप किस तरह से ट्रेड करना चाहिए. जब आप स्ट्रेटजी के हिसाब से चलेंगे तो न सिर्फ आपका समय बचेगा बल्कि आप बड़े स्तर पर चीजों को देख-समझ सकेंगे जो समय, इकनॉमिक ट्रेंड और मार्केट एक्सपेक्ट्स के हिसाब से बदलती रहती हैं.
(Article: Marc Despallieres, Chief Strategy & Trading Officer at Vantage)

रेटिंग: 4.37
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 500