निश्चित ही, बाइनरी ऑप्शंस समझने में बहुत ही आसान लगते हैं, लेकिन वास्तव में और भी बहुत कुछ है।binary options trading हर बाइनरी ऑप्शन के पीछे परिवर्तनीय कारकों की एक जटिल प्रणाली है जो हो सकता है आपको पूरी तरह न पता हो।

Motilal Oswal Trading App Review in Hindi 2022

जब बात आती है शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करनें की तो लोगों दिमाग में एक सवाल जरूर उठता है की डीमैट अकाउंट किस ब्रोक्रेज में खोले, ऐसे में लोग अलग-अलग ब्रोक्रेज के बारें में जानना चाहते छोटे ऑप्शन्स ट्रेडिंग की स्टाइल है जिसमें से मोतीलाल ओसवाल एक है, अब यदि आप Motilal Oswal Trading App Review in Hindi 2022 के बारें में पूरी जानकारी चाहते हैं तो इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें.

इस पूरे लेख में मोतीलाल ओसवाल ट्रेडिंग एप्लीकेशन के बारें में हमनें पूरी जानकारी देनें का प्रयास किया है पर मजा तब आएगा जब आप इसे अंत तक पढेंगे.

दोस्तों आज के समय में शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना लोगों को काफ़ी पसंद आ रहा है, ऐसे में देखा जाए तो कुछ सालों से स्टॉक मार्केट में लोगों की दिलचस्वी बढ़ती जा रही है, शेयर मार्केट में लोग बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रहे है जिनमें युवा कुछ ज्यादा ही रूचि दिखा रहे हैं.

वैसे तो शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना आज के समय में बहुत ही ज्यादा आसान हो गया है, बस इन्वेस्टर कों एक डीमैट अकाउंट खोलना होता है, और अपने बैंक से डीमैट अकाउंट में कुछ पैसों को डालना होता है उसके बाद शेयर मार्केट में ट्रेडिंग या इन्वेस्टिंग की जर्नी को शुरू किया जा सकता है.

ऐसे में अगर आप शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो सबसे पहली बात आती है की हम अपना डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं, तो दोस्तों आज हम आपको ऐसे ही एक विश्वसनीय ब्रोकर कंपनी के बारें में बतानें वाला हूँ जो लगभग 30 साल पुरानी है, आइये Motilal Oswal Trading App Review in Hindi 2022 के बारें में जानते है.

यह कंपनी न की यूज़र्स के लिए विश्वसनीय है बल्कि एक अच्छी सर्विस भी प्रोवाइड करती है, तो आज के इस लेख में हम मोतीलाल ओसवाल के बारें में पूरी डिटेल्स जानने वाले हैं इसलिए इस लेख को लास्ट तक पढ़ते रहिये.

Motilal Oswal Trading App Review in Hindi

आइये जानते है Motilal Oswal Trading App Review in Hindi 2022 के बारे में.

मोतीलाल ओसवाल ट्रेडिंग ऐप क्या है? What’s Motilal Oswal Trading App in Hindi

Table of Contents

मोतीलाल ओसवाल ट्रेडिंग ऐप क्या है? मोतीलाल ओसवाल एक ऑनलाइन स्टॉक ट्रेडिंग ब्रोक्रेज एप्लीकेशन है जो अपनें यूजर्स को शेयर मार्केट में स्टॉक्स, आईपीओ और म्युचुअल फंड्स, बांड्स में इन्वेस्ट करनें के लिए डीमैट अकाउंट खोलनें की सुविधा देता है.

Motilal Oswal के माध्यम से इन्वेस्टर्स अपना डीमैट अकाउंट खोलकर Stocks, IPOs, Mutual Funds, Bonds, Insurence के साथ-साथ और कई आइडियाज में ऑनलाइन इन्वेस्टमेंट कर सकते है.

अब जब शेयर मार्केट में ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट्स की बात आती है तो मोतीलाल ओसवाल के कुल 26 लाख से भी ज्यादा संतुष्ट निवेशक है जो इस पर भरोसा करते हैं, मोतीलाल ओसवाल के और भी कई सारे फाइनेंसियल एप्लीकेशन है जो ऐसी सर्विसेज प्रोवाइड करते हैं.

इस ऑनलाइन ट्रेडिंग एप्लीकेशन के साथ, अब हम रियल टाइम स्टॉक की कीमतों और मार्केट की एक्टिविटीज को ट्रैक कर सकते हैं और लगातार इसके प्राइस, वैल्यू और न्यूज़ से अपडेट रह सकते है.

म्युचुअल फंड में इन्वेस्ट करने के लिए मोतीलाल ओसवाल इन्वेस्टर्स छोटे ऑप्शन्स ट्रेडिंग की स्टाइल के साथ 20 से भी ज्यादा म्युचुअल फंड्स स्कीम्स में इन्वेस्टिंग शुरू करनें के लिए सबसे अच्छे म्युचुअल फंड्स में से एक है, जहाँ पर छोटे इन्वेस्टर्स केवल ₹500 रूपए हर महीनें के हिसाब से भी म्युचुअल फंड में निवेश की शुरुआत कर सकते हैं. आइये अब शुरू करते हैं Motilal Oswal Trading App Review in Hindi 2022 छोटे ऑप्शन्स ट्रेडिंग की स्टाइल

कंपनी के बारे में- About Motilal Oswal Broker Hindi

  • अब आपको बिना किसी ग़लती के जो भी डिटेल्स है उसे फॉर्म भरना है.
  • आपको पास मोतीलाल ओसवाल एग्जीक्यूटिव का फ़ोन आएगा, आपको फ़ोन रिसीव करना होता है.
  • उसके बाद वे आपके साथ एक ऑनलाइन लिंक शेयर करते हैं, जिसका उपयोग KYC प्रक्रिया को पूरा करनें के लिए किया जा सकता है.
  • KYC प्रोसेस को पूरा करनें के लिए आपको आधार कार्ड, पैन कार्ड और एक फ़ोटो की जरुरत होती है, जिससे आपके एड्रेस और आइडेंटिटी को वेरीफाई किया जा सके.
  • KYC प्रोसेस पूरा करने के बाद आपके मोबाइल पर कंपनी की तरफ से एक फ़ोन भी आ सकता है.
  • अब सभी स्टेप्स को पूरा करनें के बाद आपको ईमेल के साथ कुछ घंटो के भीतर लॉग इन डिटेल्स मिल सकता है, उसके बाद आप लॉग इन कर सकते है.

और पढ़ें-

निष्कर्ष

तो दोस्तों आज के इस लेख से Motilal Oswal Trading App Review in Hindi 2022। What’s Motilal Oswal Trading App in Hindi। About Motilal Oswal Broker Hindi। Motilal Oswal Features in Hindi। MO Trading App in Hindi क्या है जाना, आशा करते है आपको इस लेख से कुछ न कुछ जानकारी मिलेगी होगी ऐसी ही और जानकारियों के लिए हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जरूर जुड़े और ट्वीटर पर हमें फॉलो जरूर करें.

Q. मोतीलाल ओसवाल ट्रेडिंग ऐप क्या है?

Ans. मोतीलाल ओसवाल एक ऑनलाइन स्टॉक ट्रेडिंग ब्रोक्रेज एप्लीकेशन है जो अपनें यूजर्स को शेयर मार्केट में स्टॉक्स, आईपीओ और म्युचुअल फंड्स, बांड्स में इन्वेस्ट करनें के लिए डीमैट अकाउंट खोलनें की सुविधा देता है.

धनतेरस पर गोल्ड में ऑप्शन ट्रेडिंग शुरू करेगा MCX

इस बार 17 अक्टूबर को धनतेरस है. कमोडिटी एक्सचेंज ऑप्शन कारोबार लॉन्च करने के लिए कई महीनों से अपने सदस्यों के साथ तैयारी कर रहा था.

धनतेरस पर गोल्ड में ऑप्शन ट्रेडिंग शुरू करेगा MCX

क्या है ऑप्शंस ट्रेडिंग ?
यह वायदा कारोबार की तरह का डेरिवेटिव्स प्रॉडक्ट होता है. लेकिन इसमें बायर का जोखिम सीमित लेकिन प्रॉफिट अनलिमिटेड होता है. फ्यूचर ट्रेडिंग में हेजिंग का विकल्प नहीं मिलता है लेकिन ऑप्शन में यह सुविधा है. एक तरह से इसमें कुछ प्रीमियम चुकाकर नुकसान का बीमा कवर मिलता है. यह बिल्कुल उसी तरह होता है जैसे कार में स्क्रेच आ जाता है या चोरी या एक्सीडेंट हो जाने पर कुछ प्रीमियम चुकाने पर बीमा कंपनी नुकसान क भरपाई करती है.

gold

WTI Oil prices declined around 3 per cent this week while MCX gold falls by around 2 per cent.

उसी तरह ऑप्शन ट्रेडिंग में कुछ प्रीमियम चुकाने से नुकसान सीमित हो जाता है. ब्रोकरेज फर्म ट्रस्टलाइन के कमोडिटी रिसर्च हेड राजीव कपूर का कहना है कि कीमतों में उतार-चढ़ाव से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए ऑप्शन अच्छा विकल्प है.

इसे एक उदाहरण से समझा जा सकता है. वायदा कारोबार में आप 30 हजार के भाव पर गोल्ड की एक लॉट खरीदते हैं. लेकिन सोने का भाव 1000 रुपये टूट जाता है और 29 हजार तक आ जाता है तो एक लॉट पर आपको एक लाख रुपये का नुकसान उठाना पड़ता है. वहीं, ऑप्शन ट्रेडिंग में अगर आपने कॉल ऑप्शन खरीदा है तो 50 रुपये प्रति दस ग्राम प्रीमियम चुकाकर यह नुकसान घटकर सिर्फ 5000 रुपये रह जाता है.

फ्यूचर ट्रेडिंग से कैसे अलग है ऑप्शन ट्रेडिंग
फ्यूचर बाज़ार में हेजिंग का टूल नहीं है यानी इसमें सौदे को ओपन (खुला) छोड़ते हैं या फिर स्टॉपलॉस लगाते हैं . अगर स्टॉपलॉस लगाने पर उस स्तर पर सौदा खुद ही कट जाता है लेकिन नुकसान जरूर होता है. स्टॉपलॉस न लगाया तो नुकसान ज्यादा होता है. जबकि पुट ऑप्शन में खरीदे हुए सौदे को हेज कर सकते हैं. इसी तरह बिके हुए सौदे को कॉल ऑप्शन के जरिये नुकसान की सीमा को बांध सकते हैं.

क्या है कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन
कॉल ऑप्शन तब इस्तेमाल होता है जब आपको लगता है कि किसी कमोडिटी में आप तेजी पर दांव लगाते हैं. काल ऑप्शन में आपको प्रीमियम भरना होता वहीं आपका अधिकतम नुकसान होता है. दूसरी ओर पुट ऑप्शन का इस्तेमाल तब होता है जब आपको लगता है कि बाज़ार में आगे मंदी के आसार है.

gold

Gold rebounded छोटे ऑप्शन्स ट्रेडिंग की स्टाइल from a four-week low on Friday after latest twist in US and North Korea tensions.

सेबी ने यूरोपियन स्टाइल के ऑप्शंस लॉन्च को मंजूरी दी है
इक्विटी मार्केट के उलट कमोडिटी मार्केट में ऑप्शंस एक्सपायरी पर फ्यूचर्स प्राइस पर सेटल होंगे और ऑप्शन होल्डर को अपनी पोजिशन फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स में कनवर्ट करने का ऑप्शन होगा. इक्विटी मार्केट में एक्सपायरी पर ऑप्शन का सेटलमेंट स्टॉक या इंडेक्स के कैश यानी स्पॉट मार्केट रेट पर होता है. इक्विटी मार्केट में सेबी कैश मार्केट को रेगुलेट करता है जबकि एग्री छोटे ऑप्शन्स ट्रेडिंग की स्टाइल कमोडिटी में सेबी कैश नहीं सिर्फ फ्यूचर्स को रेगुलेट करता है. यहां का कैश वाला कमोडिटी मार्केट राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में आता है.

ऑप्शन ट्रेडिंग के 5 बड़े फायदे
1-वायदा के मुकाबले कम रिस्क, रिटर्न ज्यादा

2- प्रीमियम पर टैक्स लगेगा इसलिए वायदा के मुकाबले टैक्स कम

3-हेजिंग का टूल होने से निवेशकों की भागीदारी बढ़ेगी

4-कमोडिटी में छोटे निवेशकों की भागीदारी बढ़ेगी, कमोडिटी बाज़ार को बूस्टर मिलेगा

Stocks to Buy Today: इंट्राडे ट्रेडिंग के टॉप 20 शेयर, दमदार कमाई की कर लें तैयारी

Stocks to Buy Today: जी बिजनेस (Zee Business) अपने Traders Diary प्रोग्राम में निवेशकों के लिए एक्शन वाले शेयर्स लेकर आया है. जी बिजनेस की रिसर्च टीम के वरुण और कुशल ने आपके लिए ऐसे ही कुछ स्टॉक्स चुनें हैं.

Stocks to Buy Today: शेयर बाजार की इंट्राडे ट्रेडिंग में रोज की तरह आज भी कुछ शेयर खबरों या किसी नए सेंटीमेंट के चलते जोरदार तेजी दिखा सकते हैं. अगर आप कुछ ऐसे ही स्टॉक की तलाश में हैं तो पैसे तैयार रखें, आज की लिस्ट तैयार है. इस HINDUSTAN ZINC, VEDANTA, ICICI BANK, NLC INDIA, REDINGTON, SBI CARDS, STYLAM INDUSTRIES, STYLAM INDUSTRIES, BHEL, INDUS TOWERS, LTIMINDTREE, TMB, HINDALCO, EICHER MOTORS, HUL, LUMAX IND, SBI, HCL TECH, TATA STEEL, DLF, AU SMALL FIN BANK शामिल हैं. आज किन स्‍टॉक में आपको पैसा लगाना चाहिए, इसके लिए जी बिजनेस (Zee Business) अपने Traders Diary प्रोग्राम में निवेशकों के लिए एक्शन वाले शेयर्स लेकर आया है. जी बिजनेस की रिसर्च टीम के वरुण और कुशल ने आपके लिए ऐसे ही कुछ स्टॉक्स चुनें हैं.


वरुण के शेयर

CASH KA SHARE
BUY HINDUSTAN ZINC TARGET 325 SL 310

FUTURES
BUY VEDANTA TARGET 322 SL 307

OPTIONS
BUY ICICI BANK TARGET 930 25 SL 16

TECHNO
BUY NLC INDIA TARGET 97 SL 91.5

FUNDA
BUY REDINGTON TARGET 195 SL 183

INVESTMENT
BUY SBI CARDS TARGET 950 DURATION 6 MONTHS

NEWS KE DUM PAR
BUY STYLAM INDUSTRIES TARGET 1220 SL 1150

MY CHOICE
SELL BHEL FUT TARGET 85 SL 89
SELL INDUS TOWERS FUT TARGET 190 SL 199
SELL LTIMINDTREE FUT TARGET 4600 SL 4775

BEST PICK
BUY SBI CARDS TARGET 950 DURATION 6 MONTHS

कुशल के शेयर

CASH KA SHARE
TMB BUY 530, SL 507

FUTURES
HINDALCO SELL 450, SL 470

OPTINONS
EICHER MOTORS 3250 [email protected] 114 BUY 135, SL - 105

TECHNO
HUL BUY 2800, SL 2695

FUNDA
LUMAX IND BUY 2200, छोटे ऑप्शन्स ट्रेडिंग की स्टाइल DURATION 12 MONTHS

INVESTMENT
SBI BUY 720, DURATION 12 MONTHS

NEWS KE DUM PAR
HCL TECH -BUY 1140, SL 1090

MY CHOICE
TATA STEEL FUT SELL 107, SL 115
DLF FUT SELL 395, SL 415
AU SMALL FIN BANK BUY 690, SL 662

आज कल ट्रेडिंग में चल रहा है ये कोर्स, 12वीं पास जानिए इसमें कैसे बना सकते हैं करियर

career

इन दिनों हमारे सामने कई तरह के करियर ऑप्शन की भरमार है (Career Options)। ऐसे में अपने लिए बेस्ट ऑप्शन चुन पाना आसान नहीं होता है। ग्राफिक डिजाइनिंग (Career In Graphic Designing) के क्षेत्र में करियर की काफी बेहतरीन संभावनाएं हैं।

अगर आप चाहें तो ग्राफिक डिजाइन कोर्स (Graphic Design Course) करके भारत में अच्छे लेवल पर जॉब हासिल कर सकते हैं (Graphic Design Jobs In India)।

ग्राफिक डिजाइनिंग एक सदाबहार करियर ऑप्शन है (Career In Graphic Designing)। ग्राफिक डिजाइन डिग्री या डिप्लोमा कोर्स करके आप इसमें करियर की सबसे बेहतरीन संभावनाएं तलाश सकते हैं (Graphic Design Course)। आप चाहें तो 12वीं के बाद भी ग्राफिक डिजाइन कोर्स कर सकते हैं।

ग्राफिक डिजाइनर इमेज, टेक्स्ट मैसेज और शब्दों के माध्यम से विभिन्न कॉन्सेप्ट और आइडिया को विजुअल्स से पेश करते हैं। ग्राफिक डिजाइनर मैगजीन या न्यूजपेपर के लिए आकर्षक पेज लेआउट भी तैयार करते हैं (Graphic Design Skills)।

भारत में ग्राफिक डिजाइन कोर्स
भारत में ग्राफिक डिजाइनिंग एक बेहतरीन करियर ऑप्शन के तौर पर उभर रहा है (Career In Graphic Designing)। प्रिंट मीडिया के साथ ही डिजिटल मीडिया के लिए भी ग्राफिक डिजाइनर की जरूरत पड़ती है (Graphic Designer Job Description)। देश में ऐसे कई संस्थान हैं, जहां से ग्राफिक डिजाइन कोर्स (Graphic Design Course) किया जा सकता है।


ग्रेजुएशन लेवल
बैचलर ऑफ डिजाइन
बैचलर ऑफ ग्राफिक डिजाइनिंग
बैचलर ऑफ आर्ट्स – ग्राफिक डिजाइनिंग
बीएससी – मल्टीमीडिया

पोस्ट ग्रेजुएशन लेवल
मास्टर ऑफ आर्ट्स – ग्राफिक डिजाइनिंग
मास्टर ऑफ डिजाइन – ग्राफिक डिजाइनिंग

पीएचडी लेवल
डॉक्टर डिग्री – ग्राफिक डिजाइनिंग

ग्राफिक डिजाइनिंग में सर्टिफिकेट या डिप्लोमा कोर्स भी किए जा सकते हैं। अगर आप ऑनलाइन कोर्स करना चाहते हैं तो आपके पास उसका ऑप्शन भी है।

बाइनरी ऑप्शंस से पैसे कैसे कमाएं?

बाइनरी ऑप्शन

ये उन लोगों को ट्रेडिंग व्यापार का हिस्सा बनाने का अवसर छोटे ऑप्शन्स ट्रेडिंग की स्टाइल देते हैं जिनकी पहुंची परम्परागत ट्रेडिंग तक नहीं है, चाहे उनका अनुभव स्तर कुछ भी हो।

वास्तव में, हर दिन दुनिया में और भी अधिक लोग ट्रेडिंग करने का निर्णय ले रहे हैं

चूंकि बाइनरी ऑप्शंस समझने में आसान हैं, इसलिए यह कई लोगों के लिए विभिन्न आस्तियों में ट्रेड कर पैसे कमाने का जरिया खोल देती हैं।

लेकिन जोखिम सदैव ही जीवन का हिस्सा होता है, और आपको स्वयं से पूछना होगा कि जोखिम को कम से कम रखकर आप बाइनरी ऑप्शंस से पैसे कैसे कमाएंगे?

वास्तविकता में, ऐसा कोई जादुई मंत्र नहीं है जो आपको बाइनरी ऑप्शंस से बहुत सारा मुनाफ़ा कमा कर दे।

लेकिन, अनुभवी ट्रेडरों की ये कुछ सलाहों अगर आप ध्यान में रखने तो ये आप को लंबी दौड़ में बहुत सहायक होंगी!

अपने लिए उपयुक्त आस्ति चुनें

बाइनरी ब्रोकर के साथ पहली बार साइन अप करते समय, आप ध्यान रखें कि आपको एक विश्वसनीय और भरोसेमंद ढूँढना चाहिए जो आपको चुनने और निवेश करने के लिए कई सारी आस्तियों के विकल्प दे।

लेकिन, अगर आपके पास पहले से ही किसी क्षेत्र विशेष का अनुभव है, या आप बाइनरी ट्रेडिंग पर रिसर्च किसी विशेष आस्ति के लिए ही कर रहे थे तो अपना ध्यान वहीं केन्द्रित रखें।

मान लीजिए कि आप नए हैं, और प्लैटफॉर्म चुनने से पहले आपने कमोडिटी बाइनरी ट्रेडिंग के बारे में थोड़ी रिसर्च की है।

हो सकता है आपके पास इन आस्तियों में ट्रेड करने का व्यावहारिक अनुभव न हो, लेकिन आप अवश्य ही आधारभूत बातें जान चुकें है जो आपके बहुत काम आएंगी जब आप निवेश करना शुरू करेंगे।

ब्रोकर चुनने से पहले, यह ज़रूर जांच लें कि वह आपको वे आस्तियां उपलब्ध कराएगा भी या नहीं जिनके बारे में आपने रिसर्च किया है।

बोनस का फ़ायदा उठाए

आजकल बहुत सारे ब्रोकर नए आने वालों को वेलकम बोनस दे रहे हैं।

वेलकम बोनस ज़्यादातर उस राशि पर निर्भर करता है जो नया उपयोगकर्ता अपने खाते में जमा कर रहा है। लेकिन आप इस तरह सोचकर देखें: हर ऑनलाइन बाइनरी ऑप्शंस ब्रोकर वेलकम बोनस में नए उपयोगकर्ता एक निश्चित राशि देता है।

लेकिन क्या होगा अगर आप केवल एक ब्रोकर के साथ साइन अप करने के बजाए कई ब्रोकरों के साथ साइन अप करने का निर्णय लेते हैं और भावी निवेश राशि को उनमें बांटना चाहते हैं?

तो इस तरह से आप केवल एक ब्रोकर से बोनस का लाभ नहीं ले रहे बल्कि कई ब्रोकरों से बोनस का लाभ ले रहे हैं!

सिद्धान्त सीखें

द्विआधारी विकल्प कारोबार

निश्चित ही, बाइनरी ऑप्शंस समझने में बहुत ही आसान लगते हैं, लेकिन वास्तव में और भी बहुत कुछ है।binary options trading हर बाइनरी ऑप्शन के पीछे परिवर्तनीय कारकों की एक जटिल प्रणाली है जो हो सकता है आपको पूरी तरह न पता हो।

जरा सोचें – आप स्टॉक्स, सूचकांकों, फॉरेक्स और कमोडिटी में निवेश कर रहे हैं जिनकी कीमतों में लगातार बदलाव हो रहे हैं।

और, चीजें आपके द्वारा चुनी गई समाप्ति अवधि पर बहुत ज़्यादा निर्भर करती हैं और बहुत सी चीजें बादल सकती हैं चाहे आपकी समाप्ति अवधि केवल 60 सेकंड ही क्यों न हो।

हो सकता है आप न समझ सकें कि ये पूरी प्रणाली कैसे काम करती है, लेकिन आप निश्चित ही आधारभूत बातें समझ सकते हैं, जैसे अलग-अलग बाइनरी ऑप्शंस के प्रकार, जोखिम कारक और डायग्राम पढ़ना।

इस कहानी के पीछे की कहानी का परिचय पाकर आप अधिक विवेकपूर्ण चयन कर पाएंगे।

समय के साथ सीखते रहें

बाइनरी ब्रोकर आम तौर पर चार आस्तियां कमोडिटीज़, मुद्राएँ, सूचकांक और स्टॉक ऑफर करते हैं। विशेषज्ञों और अनुभवी ट्रेडरों के अनुसार, जिन आस्तियों के बारे में आप आसानी से सही अनुमान लगा सकते हैं वे कमोडिटी हैं जबकि अनुमान लगाने के लिए सबसे ज़्यादा अस्थिर आस्ति सूचकांक हैं।

कमोडिटी में निवेश करते समय आम चलन है कि कीमतें बढ़ेंगी – जो कि ज़्यादातर मामलों में सही है।

ऐसा समग्र आर्थिक स्थिति के कारण है, जो कमोडिटीज़ की कीमतों को बढ़ाती है और कीमतें बढ़ता प्रत्याशित होता है। दूसरी ओर, सूचकांकों की कीमतें बहुत ज़्यादा नहीं बदलतीं।

वास्तव में, इनकी कीमते हर समय बदलती रहती हैं, लेकिन ये बदलाव बहुत छोटे और अप्रत्याशित होते हैं।

सूचकांकों की कीमतें बढ़ सकती हैं और एक बहुत ही कम समयावधि में अचानक नीचे गिर सकती हैं जिससे अनुमान लगाना बहुत मुश्किल हो जाता है।

नए ट्रेडरों को हमेश अधिक प्रत्याशित आस्ति के साथ शुरुआत करनी चाहिए और समय के साथ सीखना चाहिए।

इस तरह, वे आवश्यक अनुभव लेते रहेंगे और यद्यपि वे शुरुआत में बहुत अधिक नहीं कमा पाएंगे लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि वे कुछ खो भी नहीं रहे हैं!

बाइनरी ट्रेडिंग की दुनिया का हिस्सा बनाना आपकी व्यक्तिगत और व्यावसायिक सफलता की ओर एक बहुत बड़ा कदम है।

यह बात साफ है कि हर शुरुआत कठिन होती है लेकिन ध्यान रखें कि ज्ञान अनुभवों से ही मिलता है, जल्द ही अपनी खुद की ट्रेडिंग स्टाइल का विकास कर लेंगे और अधीन आत्मविश्वासी हो जाएंगे।

बाइनरी ऑप्शंस से पैसे कमाना कई लोगों के लिए एक वास्तविकता है – आप उनसे पैसे क्यों नहीं कमा सकते ऐसा कोई कारण नहीं है! शुरू करने से पहले अच्छी तरह तैयारी करें, वरीयता प्राप्त ब्रोकर चुने। और गुड लक!

रेटिंग: 4.30
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 179