भारत में बिटकॉइन का भविष्य?

भारत में बिटकॉइन का भविष्य अनिश्चित है, लेकिन एक बात निश्चित है: क्रिप्टोकरंसी क्रांति ने देश में अपनी जगह बना ली है। वर्षों से, भारतीय नागरिक क्रिप्टोकरंसी स्पेस में शामिल होने के तरीकों की तलाश कर रहे थे, और अब उनके पास आखिरकार यह अवसर है।

बिटकॉइन 2020 की शुरुआत से भारत में कर्षण प्राप्त कर रहा है, जब इसे पहली बार भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा वैध किया गया था। इस फैसले ने भारतीय नागरिकों को कानूनी तौर पर बिटकॉइन खरीदने और बेचने की अनुमति दी और इसने उनके लिए एक पूरी नई दुनिया खोल दी। हर दिन अधिक से अधिक लोग बिटकॉइन में शामिल हो रहे हैं, इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि भारत की अर्थव्यवस्था के लिए यह भारत में कैसे खरीदें बिटकॉइन? डिजिटल मुद्रा क्या कर सकती है, इसमें बहुत रुचि है।

हालाँकि, इस सारे उत्साह के बावजूद, अभी भी कुछ चुनौतियाँ हैं जिन्हें संबोधित करने की आवश्यकता है, इससे पहले कि हम वास्तव में समझ सकें कि बिटकॉइन में भारतीयों के लिए कितना लाभदायक निवेश हो सकता है। इन चुनौतियों में से एक विनियमन है; जबकि दुनिया भर के कई देशों ने क्रिप्टोकरेंसी को विनियमित करने के लिए कदम उठाए हैं, भारत ने अभी तक ऐसा नहीं किया है। इसका मतलब यह है कि बीटीसी में निवेश करते समय निवेशकों के पास कोई कानूनी सुरक्षा नहीं होती है, जो उन्हें ऑनलाइन निवेश से जुड़े घोटालों और अन्य जोखिमों के प्रति संवेदनशील बनाता है।

भारत में बिटकॉइन को अपनाने में एक और चुनौती इसकी अस्थिरता है; किसी भी अन्य परिसंपत्ति वर्ग की तरह, बीटीसी की कीमतें तेजी से बदल सकती हैं जिसका मतलब है कि निवेशकों को अपना निवेश करते समय संभावित नुकसान और लाभ दोनों के लिए तैयार रहना चाहिए। सौभाग्य से, अब भारतीय निवेशकों के लिए कई विकल्प उपलब्ध हैं जो अपने जोखिम को कम करना चाहते हैं जैसे कि डॉलर-लागत औसत या यूनोकॉइन या ज़ेबपे जैसे एक्सचेंजों पर स्टॉप-लॉस ऑर्डर का उपयोग करना।

अंतत: हमें शिक्षा पर विचार करना चाहिए; जबकि अधिकांश भारतीय अब तक इसकी लोकप्रियता और मीडिया कवरेज के कारण बिटकॉइन के बारे में जानते हैं, कुछ वास्तव में यह समझते हैं कि यह वास्तव में क्या है या निवेश करते समय वे इसे सुरक्षित और जिम्मेदारी से कैसे उपयोग कर सकते हैं। इस चुनौती को दूर करने के लिए, शैक्षिक पहल की आवश्यकता है ताकि लोग बिटकॉइन व्यापार में शामिल होने या खनन कार्यों में सीधे निवेश करने से पहले यह समझ सकें कि वे क्या कर रहे हैं।

इन सभी चुनौतियों के बावजूद, भारत भारत में कैसे खरीदें बिटकॉइन? में बिटकॉइन का भविष्य उज्ज्वल दिखता है; देश की अर्थव्यवस्था पर इसके संभावित प्रभाव के साथ-साथ इसकी मजबूत प्रौद्योगिकी अवसंरचना को देखते हुए जो उपयोगकर्ताओं को भारी लेनदेन शुल्क का भुगतान किए बिना वैश्विक बाजारों तक पहुंच की अनुमति देता है – यह डिजिटल मुद्रा बहुत अच्छी तरह से क्रांति ला सकती है कि समय के साथ भारत में पैसा कैसे काम करता है भारत में कैसे खरीदें बिटकॉइन? अगर ठीक से विनियमित किया जाए। केवल समय ही बताएगा कि BTC भारतीय नागरिकों के बीच कर्षण प्राप्त करना जारी रखेगी या नहीं, लेकिन एक बात निश्चित है – यह निश्चित रूप से पहले से ही एक प्रभाव बना चुका है!

India At 2047: भारत कैसे क्रिप्टो सेक्टर पर रख रहा है सतर्क रुख, अन्य देशों को लेनी चाहिए सीख

Looking Ahead, [email protected]: भारत ने अब तक क्रिप्टो करेंसी के नियामक के लिए मिलेजुले संकेतों की पेशकश की है और समय लिया है ताकि यह उद्योग के साथ-साथ निवेशकों के हितों की रक्षा भी कर सके.

By: प्रशांत कुमार | Updated at : 10 Aug 2022 05:00 PM (IST)

Edited By: Meenakshi

Crypto Regulation: क्रिप्टोकरेंसी सुर्खियों में हैं जब से सुप्रीम कोर्ट ने 2020 की शुरुआत में उन पर पूर्ण प्रतिबंध हटा दिया है. 2021 में एक्सचेंजों और तेजी से बढ़ते बाजारों के प्रसार के साथ, क्रिप्टोकरेंसी के नाम से कोई अनजान नहीं है. भारत में देर से प्रवेश करने के बावजूद क्रिप्टो दुनिया को खुले हाथों से अपनाया और आज लगभग 27 मिलियन भारतीय हैं जो क्रिप्टो संपत्ति रखते हैं, मुख्यतः टियर II और टियर III शहरों में. बता दें कि देश में एक्टिव डीमैट खातों की संख्या भी इससे थोड़ी ही ज्यादा है जो देश में दशकों से मौजूद हैं.

क्रिप्टो के क्षेत्र में केंद्र ने अभी तक क्या कदम उठाए हैं
क्रिप्टोकरेंसी ऐसेट करेंसी और टेक्नोलॉजी का एक बहुत ही दिलचस्प संकेत है. वित्त मंत्रालय द्वारा अब तक उठाए गए कदमों को करीब से देखने से पता चलता है कि हमारे करेंसी रेगुलेटर तीन पहलुओं को अलग तरह से देखते हैं. ऐसा लगता है कि यह मूल कारण है कि भारत ने अब तक क्रिप्टो करेंसी के नियामक के लिए मिलेजुले संकेतों की पेशकश की है और समय लिया है ताकि यह उद्योग के साथ-साथ निवेशकों के हितों की रक्षा भी कर सके.

देश में क्रिप्टो पर टैक्स का उठा कदम
यदि हम पिछले केंद्रीय बजट के दौरान की गई सभी घोषणाओं को करीब से देखें तो पाएंगे कि ज्यादातर शोर क्रिप्टो ऐसेट्स के टैक्सेशन के आसपास रहा है. हालांकि क्रिप्टो पर टैक्स एक बहुत ही स्वागत योग्य कदम है जिसे तब से आरबीआई ने भी इसे बार-बार दोहराया है. फिर भी ये कहना ज्यादा सही होगा कि ब्लॉकचेन पर बेस्ड क्रिप्टोकरेंसी, करेंसी के मौजूदा डिजिटल संस्करण की तुलना में एडवांस्ड हैं और भारत (हमेशा की तरह) एक नई तकनीक को अपनाने के लिए खुले मन से तैयार है.

वैध डिजिटल ऐसेट के रूप में सामने आ रही है क्रिप्टो
एक और पहलू देखें तो इसे एक संपत्ति के रूप में मानने और इस पर टीडीएस और टैक्स लगाने से ये वैध ऐसेट के रूप में स्थापित हो सकता है. हालांकि यह तर्क दिया जा भारत में कैसे खरीदें बिटकॉइन? सकता है कि क्या दरें ऊंची या कम) हैं? क्या नीति निर्माताओं को उन्हें एसटीसीजी और एलटीसीजी के समान व्यवहार करना चाहिए, क्रिप्टो पर टैक्सेशन इसे अनुमोदित करने का रेगुलेटर का तरीका है. इससे इस बात के भी संकेत मिलते हैं कि अब यह किसी के लिए व्यापार करने और क्रिप्टो के मालिक होने के लिए पूरी तरह से वैध है. ये शुरुआती दिन हैं और समय बीतने के साथ और बढ़ती समझ के साथ, टैक्सेशन धीरे-धीरे अधिक निवेशक अनुकूल हो जाएगा.

निवेशकों को ना हो परेशानी
यह हमें एक मुद्रा के रूप में क्रिप्टो के तीसरे पहलू को भी सामने लाता है जिसमें कुछ देशों के विपरीत हमारे रेगुलेटर मजबूत रहे हैं. क्रिप्टो करेंसीज मूल्य का एक अत्यधिक लिक्विड भंडार हैं, और हमें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि यह भारत और विदेशों में समान रूप से निवेशकों को ट्रीट कर सके. साथ ही ये पक्का कर सके कि क्रिप्टो की सहज कमी की कोई परेशानी नहीं है

भारत और क्रिप्टो-आगे क्या भविष्य है
वित्त मंत्री ने पिछले महीने क्रिप्टो पर अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के बारे में बात की थी. भारत को अपने पड़ोसियों सिंगापुर और दुबई से आगे नहीं देखना चाहिए ये वो दो देश हैं जो अब सही तरीके से क्रिप्टो क्रांति का नेतृत्व करने में सबसे आगे हैं. क्रिप्टोकरेंसी एक बहुत ही दिलचस्प दोहरे व्यवहार को प्रदर्शित करता है जिसमें एक तरफ यह सभी को दिखाई देता है, लेकिन दूसरी ओर यह तब तक जिम्मेदार नहीं है जब तक यह ब्लॉकचेन पर आधारित रहता है. ये ही असल में विवाद की जड़ है और सरकार को ढांचा तैयार करना चाहिए, एक्सचेंजों के साथ साझेदारी करनी चाहिए और लाइसेंस जारी करना चाहिए ताकि हमारी (और अन्य) जैसी कंपनियां हमारे नियामकों की सुविधा के रूप में कार्य कर सकें और भारत को ब्लॉकचेन तकनीक के साथ आगे ला सकें.

अन्य देशों में क्रिप्टो की स्थिति
क्रिप्टो को अब तक विभिन्न देशों से मिली-जुली प्रतिक्रिया मिली है. अल साल्वाडोर अमेरिकी डॉलर के साथ-साथ बिटकॉइन को लीगल टेंडर के रूप में अपनाने वाला पहला देश बन गया, हालांकि, इसे भारी नुकसान हुआ. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) और कई क्रेडिट एजेंसियों की आलोचनाओं के बावजूद, भारत में कैसे खरीदें बिटकॉइन? मध्य अमेरिकी राष्ट्र ने बीटीसी को अपने राष्ट्रीय रिजर्व में जोड़ना जारी रखा और यहां तक ​​​​कि बिटकॉइन सिटी नामक एक क्रिप्टो ट्रेडिंग हब स्थापित करने की योजना का खुलासा किया. हालांकि, हाल ही में बीटीसी की कीमतों में गिरावट और कुल क्रिप्टो बाजार में गिरावट के कारण, देश के निवेश का मूल्य कम हो रहा है जिनकी अनुमानित रूप से कीमत 50 मिलियन डॉलर से ज्यादा है. दूसरी ओर चीन है, जो क्रिप्टो प्लेटफॉर्म और इसके विभिन्न पहलुओं पर नाटकीय रूप से अपने रुख से पलटा है, इतना अधिक कि क्रिप्टो व्यापारियों और खनिकों को अंततः देश से बाहर जाना पड़ा और अपने व्यवसाय को जारी रखने के लिए अन्य दक्षिण एशियाई देशों में ठिकाने स्थापित करने पड़े.

भारत के लिए क्रिप्टो पर सतर्कता अच्छी साबित हुई
क्रिप्टोक्यूरेंसी और इसके विभिन्न पहलुओं के लिए भारत के सतर्क दृष्टिकोण को अन्य सरकारों के लिए सीखने की अवस्था के रूप में माना जा सकता है. इस क्षेत्र को पूरी तरह से अपनाने या बैन करने का फैसला लेने से पहले समर्पित रिसर्च करनी बेहद जरूरी है जो भारत सरकार कर रही है.

ये भी पढ़ें

Published at : 10 Aug 2022 04:44 PM (IST) Tags: India Nirmala Sitharaman Cryptocurrency Bitcoin RBI FM digital currency Dogecoin Tether India at 2047 Crypto Regulation हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: India-at-2047 News in Hindi

Bitcoin Kaise Kharide? Buy From Zebpay India

Bitcoin Kaise Kharide 2020 : बिटकॉइन का रेट आज लगातार बढ़ रहा है। लोग इस पर invest भी कर रहे है। बिटकॉइन की बढ़ती मांग और इस पर होने वाले मुनाफ़े को देखते हुए लोग bitcoin खरीद रहे है। दूसरे देशों की तरह india में भी bitcoin काफी चर्चा का विषय बना हुआ है।

अगर आप भी india से है और bitcoin में निवेश करना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़िए। इसमें हम आपको बताएँगे कि bitcoin कैसे खरीदे ?

लोगों को पता चलते ही जल्द से जल्द इस क्रिप्टोकरेंसी को खरीदना चाहते है। लेकिन bitcoin कैसे और कहाँ से ख़रीदे इसकी पर्याप्त जानकारी नहीं होने से इसे खरीद नहीं पा रहे। लेकिन इस पोस्ट में आपको बिटकॉइन कहाँ और कैसे खरीदना है इसकी स्टेप by स्टेप पूरी जानकारी मिलेगा।

buy-bitcoin-zebpay-india

Bitcoin Buy करने के लिए वॉलेट उपलब्ध है। बस आपको इस पर अपना अकाउंट बनाना है। भारत में बिटकॉइन खरीदने और बेचने के लिए zebpay सबसे अच्छा है। तो चलिए जानते है कि जेबपे से बिटकॉइन कैसे खरीदें ?

Zebpay से bitcoin buy करने के लिए सबसे पहले अपने android मोबाइल में इसका एप्लीकेशन डाउनलोड करके अकाउंट बनाना है। उसके बाद ईमेल, पैन कार्ड, बैंक और आधार नंबर वेरीफाई करना है। नीचे दिए जा रहे पोस्ट को पढ़कर अकाउंट बनाना और वेरिफिकेशन का काम कर लीजिये।

  1. इसे पढ़ें – बिटकॉइन अकाउंट कैसे बनाये | Bitcoin Wallet India
  2. इसे पढ़ें – बिटकॉइन खरीदने एवं बेचने के लिए जेबपे अकाउंट वेरिफिकेशन कैसे करे

ऊपर बताये गए दोनों कार्य यानि जेबपे पर अकाउंट बनाना और अकाउंट वेरिफिकेशन करने के बाद आप बिटकॉइन खरीद सकते है। चलिए अब जानते है कि zebpay से bitcoin कैसे ख़रीदे ?

जानिये बिटकॉइन के बारे में सबुकछ, कैसे खरीदें- कितना है खतरा

नयी दिल्ली : क्रिप्टो करेंसी को समझना हो, तो सरल शब्दों में इसे इंटरनेट मनी के रूप में समझें. इसेकिसी देश का क्रेंद्रीय बैंक जारी नहीं करता. यह कंप्यूटर कोड के जरिये जेनरेट होता है.

इस वक्त हजारों क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल हो रहा है लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा इस वक्त बिटकॉइन की है. क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल आप अॉनलाइन लेन- देन में कर सकते हैं. पौराणिक काल में सामान के भारत में कैसे खरीदें बिटकॉइन? बदले सामान का चलन था.फिर मुद्रा आयी अब . क्रिप्टो करेंसी का दौर है.

आप बाजार में खरीदारी के लिए जेब में पर्स और उसमें पैसे रखते हैं. क्रिप्टो करेंसी भी बिल्कुल वैसी ही है.अब ई-वॉलेट का चलन शुरू हो रहा है.बिटकॉइन को इससे अलग मत समझिये . बस यहां फर्क इतना है कि यहां आपके पैसे बिटकॉइन की खरीद- बिक्री के आधार पर दाम बढ़ते घटते रहेंगे.

कैसे घटती-बढ़ती है कीमत

बिटकॉइन डिजिटल मुद्रा है और इसी माध्यम में भुगतान के लिए इस्तेमाल होता है.यह मुद्रास्फीति के ऊपर और नीचे होने से भी मुक्त है.ब्याज दर और बाजार के उतार-चढ़ाव का भी इस पर असर नहीं होता है,बल्कि इसकी कीमत बिटकॉइन की खरीद और बिक्री पर घटता बढ़ता है.बिट क्वाइन के वितरण की उच्चतम संख्या210लाख तक रखी गयी है. पहली बार साल 2010 में बिटकॉइन का इस्तेमाल पिज्जा खरीदने के लिए किया गया था. एक पिज्जा के बाद दस हजार बिटकॉइन दिये गये थे. अब एक बिटकॉइन की कीमत 8 लाख रुपये से भी ज्यादा है.

अब समझ लीजिए खतरा क्या है

यह पूरी तरह इस विश्वास पर कायम है कि बिट क्वाइन की एक कीमत है.पारंपरिक मुद्राओं के उलट,यह किसी देश या बैंक से नहीं जुड़ा होता है,न ही इसका कोई भंडार(रिजर्व)होता है.बिट क्वाइन पूरी तरह आपसी प्रतिष्ठा पर आधारित है और इसका व्यापार वेबसाइट पर होता है.यह डिजिटल टोकन पर चलनेवाली मुद्रा है,जिनका वास्तव में कोई अंतर्निहित मूल्य नहीं होता है.किसी केंद्रीय व्यवस्थापक पर विश्वास करने के बजाय यह सबसे अधिक भरोसे पर आधारित होता है.यह एक ऐसे ट्रांजेक्शन-लेजर पर काम करता है,जिसको मुद्रा के इस्तेमाल करनेवाले संयुक्त तौर पर इसका नियंत्रण करते हैं.स्पष्ट तौर पर समझिये कि अगर बिट क्वाइन किसी कारण बंद हो गया तो आपके पैसे वापस मिलने की कोई गारंटी नहीं लेगा.

आप कैसे खरीद सकते हैं बिटकॉइन

बिटकॉइन खरीदने के लिए सबसे पहले आपको एप्स अपने मोबाइल पर डाउनलोड करना होगा. इस एप्प में आफको अकाऊंट बनाना होगा जिसमेंआपका ईमेल,पैन कार्ड नंबर,बैंक अकाऊंट नंबर और आधार कार्ड जैसी जरूरी जानकारी देनी होगी.इसमें आपकी सारी जानकारी गुप्त रखी जाती है.यही कारण है कि इस पर भारत सरकार की भी विशेष नजर है.

अब समझिये इतिहास क्या है

बिटकॉइन की शुरूआथ साल2008में हुई थी.इसकी शुरूआत के पीछे मान्यता है कि एक छद्म लेखक के शोध के आधार पर इसकी शुरूआत की गयी है.साल2012में इसकी खूब चर्चा होने लगी.दुनिया में कहीं भी इसे कानूनी रूप से मान्यता नहीं दी गयी है.इसकी मदद से दुनिया में कहीं भी बगैर बिचौलिये के पैसे पहुंचाया जा सकता है.

भारत में इसे बढ़ावा देने के लिए साल2014- 15में भारत में कैसे खरीदें बिटकॉइन? बेंगलुरु में एक बड़ा आयोजन किया गया.साइबरस्पेश से जुड़े लोगों के बीच पहले यह लोकप्रिय हुआ.इसके बाद धीरे-धीरे इसका दायरा बढ़ता गया.इसकी लोकप्रियता बढ़ रही है.देश में एक बड़ा समुदाय बिटकॉइनके प्रति बेहद आशान्वित है.भारत में बिटकॉइनका इस्तेमाल करने वालों की संख्या लगभग 20लाख है.

Prabhat Khabar App :

देश, दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, टेक & ऑटो, क्रिकेट और भारत में कैसे खरीदें बिटकॉइन? राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

पिज्जा खरीदें या वीडियो गेम्स… जानिए बिटकॉइन का कहां, कैसे हो रहा इस्तेमाल

अब कई बिटकॉइन रेस्टोरेंट शुरू हो गए हैं जो खाने-पीने के सामान के बदले बिटकॉइन लेते हैं. बस आपको यही करना होगा कि इसका वॉलेट रखना होगा और खाने के ऑर्डर के लिए उससे बिटकॉइन bitcoin ट्रांसफर करना होगा.

पिज्जा खरीदें या वीडियो गेम्स. जानिए बिटकॉइन का कहां, कैसे हो रहा इस्तेमाल

बिटकॉइन का इस्तेमाल कई तरह के काम में हो रहा है. ट्रांजेक्शन से लेकर खरीदारी तक में. यहां तक कि लोग पिज्जा ऑर्डर भी बिटकॉइन से करते हैं. वीडियो गेम्स खरीदने की बात हो तो लोग रुपये और डॉलर खर्च करने की बजाय बिटकॉइन देते हैं. बिटकॉइन bitcoin जैसी क्रिप्टोकरंसी में जैसे लोगों की दिलचस्पी बढ़ रही है, वैसे-वैसे इनवेस्टमेंट बढ़ रहा है. इसी हिसाब से लोग इसका खर्च भी कर रहे हैं.

अब सवाल है कि जिन लोगों ने पहले से क्रिप्टोकरंसी जैसे कि बिटकॉइन आदि इकट्ठा किया है, उसे कैसे इस्तेमाल करें. उन्हें पता होना चाहिए कि बिटकॉइन को कहां-कहां खर्च कर सकते हैं. यह सवाल उनके लिए बड़ा है जिन्हें लगता है कि क्रिप्टो का चलन अभी डेली यूज में नहीं आया है. भारत में अभी इसे हरी झंडी नहीं मिली है लेकिन इसमें निवेश धड़ल्ले से हो रहा है. इसी तरह विदेशों में तो लोग छोटे खर्च के लिए भी भारत में कैसे खरीदें बिटकॉइन? bitcoin का इस्तेमाल करते हैं.

देश-दुनिया में कई ऐसे बिजनेस हैं जो बिटकॉइन को स्वीकार कर रहे हैं. वे ट्रांजेक्शन के तौर पर bitcoin लेते हैं. उन्हें बिटकॉइन लेने में फायदा है क्योंकि इससे उनके पास क्रिप्टो इकट्ठा हो रहा है. बाद में भाव चढ़े तो वे इससे कमाई कर सकते हैं. अन्य करंसी के साथ ऐसी सुविधा नहीं दिखती क्योंकि पेपर नोट या कॉइन के भाव स्थिर रहते हैं. आइए जानते हैं कि जिन लोगों के पास बिटकॉइन है, वे इसे कैसे खर्च करते हैं. या जो लोग खर्च करना चाहते हैं वे कहां इस्तेमाल कर सकते हैं.

दान में इस्तेमाल

इसका इस्तेमाल दान के रूप में कर सकते हैं. कोई चैरिटी का काम करना चाहते हैं तो ऑनलाइन बिटकॉइन bitcoin दान कर अपनी बड़ी जिम्मेदारी निभा सकते हैं. कुछ लोग इसे गिफ्ट या सौगात देने का सबसे अच्छा जरिया बता रहे हैं. इसकी कीमतें जिस हिसाब से बढ़ी हैं और आगे बढ़ने की संभावना है, उसे देखते हुए गिफ्ट में उपयोग कर सकते हैं. गिफ्ट भी ऐसा कि कोई भारी-भरकम चीज हाथ में नहीं देना है बल्कि डिजिटल तरीके से बिटकॉइन दे देना है. कई लोग गुमनाम रहते हुए दान करते हैं. इन अनाम लोगों के लिए बिटकॉइन अच्छा स्रोत हो सकता है क्योंकि इसमें देने वाले का पता नहीं चलेगा.

वीडियो गेम्स

अब कई वीडियो गेम्स कंपनियां बिटकॉइन ले रही हैं. माइक्रोसॉफ्ट जैसी कंपनी ने वीडियो गेम्स ऑफर करने का काम शुरू किया है और इसके लिए पेमेंट सोर्स के तौर पर बिटकॉइन लिया जा रहा है. कुछ ऐप्स भी बिटकॉइन ले रहे हैं. अगर आप वीडियो गेम के शौकीन हैं और आपके पास बिटकॉइन है, तो इस तरीके से खर्च कर सकते हैं.

अब कई बिटकॉइन रेस्टोरेंट शुरू हो गए हैं जो खाने-पीने के सामान के बदले बिटकॉइन लेते हैं. बस आपको यही करना होगा कि इसका वॉलेट रखना होगा और खाने के ऑर्डर के लिए उससे बिटकॉइन bitcoin ट्रांसफर करना होगा. कुछ कैफे और कॉफी हाउस बिटकॉइन स्वीकार करते हैं. उदाहरण के लिए प्राग का कॉपी प्लेस जो केवल बिटकॉइन ही लेता है.

ट्रैवल

एक्सपीडिया और cheapAir जैसी ट्रैवल कंपनियां बिटकॉइन में पेमेंट ले रही हैं. आप क्रिप्टो का पेमेंट कर आसानी से होटल बुक कर सकते हैं या फ्लाइट का टिकट ले सकते हैं. कुछ कार डीलर कंपनियां भी बिटकॉइन लेने पर काम कर रही हैं. दुनिया के कुछ हिस्सों में गैस का पेमेंट बिटकॉइन से किया जा रहा है. आजकल कई सॉफ्टवेयर आ गए हैं जिसकी मदद से बिटकॉइन को खर्च किया जा सकता है.

ओवरस्टॉक एक रिटेल शॉप है जहां से आप बिटकॉइन से घर के सामान खरीद सकते हैं. यह पेमेंट प्रोसेस करने के लिए कॉइनबेस का उपयोग करता है. सबसे बड़ा काम वर्जिन अटलांटिक ने शुरू किया है जो स्पेस टूरिज्म को लेकर है. सभी लोग स्पेस में जाना चाहते हैं और इस इच्छा को वर्जिन अटलांटिक बखूबी पूरा करने जा रहा है. हैरत की बात नहीं कि वर्जिन को आगे चलकर लोग बिटकॉइन में ही पेमेंट करेंगे.

विकिपीडिया को दान

विकिपीडिया Wikipedia के बारे में सबलोग जानते हैं. यह नॉन प्रॉफिट संस्था है जो लोगों के दान से चलती है. इसे बिटकॉइन में दान दे सकते हैं. नई वेबसाइट शुरू करनी हो तो उसके लिए अलग से डोमेन लेना होता है. इस पर भारी खर्च आता है. Name cheap जैसी कंपनी पेमेंट के तौर पर बिटकॉइन ले रही है. इसी तरह पिज्जाफॉरकॉइन जैसी कंपनी अब पिज्जा के लिए बिटकॉइन ले रही है. बिटकॉइन से पेमेंट bitcoin payment कर आसानी से पिज्जा घर मंगा सकते हैं.

रेटिंग: 4.98
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 144